Ind Vs Eng: जिसका डर था वही हुआ..., भारत के हाथ से फिसल रहा जीता-जिताया मैच

नई दिल्ली: एजबेस्टन में भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे पांचवें टेस्ट मुकाबले के तीसरे दिन का खेल ख़त्म होने के बाद सभी को एक डर सता रहा था कि यदि भारतीय टीम ने कम से कम 400 रन की बढ़त हासिल नहीं की तो उसे दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। यही हुआ भी और अब चौथे दिन के खेल के बाद कहा जा सकता है कि मैच भारत के हाथों से निकलता दिख रहा है। हालांकि, मैच और श्रृंखला जीतने की उम्मीद अभी भी की जा सकती है। 

तीसरे दिन का खेल ख़त्म होने तक टीम इंडिया के पास 257 रनों की बढ़त थी और दूसरी पारी में भारत ने 45 ओवर में 3 विकेट खोकर 125 रन बना लिए थे, मगर चौथे दिन टीम 37 ओवर भी नहीं खेल सकी और कुल 245 रन बनाकर ढेर हो गई। सभी को इसी बात की चिंता थी कि टीम कहीं 400 से कम की बढ़त हासिल करने से पहले न सिमट जाए और ये डर सच्चाई में उस वक़्त बदल गया, जब टीम महज 377 रन की बढ़त हासिल कर सकी।  वहीं, इंग्लैंड ने 378 रनों के टारगेट का पीछा करते हुए शानदार शुरुआत की। कप्तान जसप्रीत बुमराह ने टीम इंडिया की वापसी जरूर कराई, मगर फिर जो रूट और जॉनी बेयरेस्टो ने इंग्लैंड को मैच में वापस ला दिया। 

अब इंग्लैंड को मैच जीतने और श्रृंखला में बराबरी करने के लिए केवल 119 रनों की दरकार है और टीम के हाथ में 7 विकेट शेष हैं। रूट और बेयरेस्टो क्रीज़ पर मौजूद हैं। ऐसे में इंग्लैंड के लिए ये काम आसान दिख रहा है। वहीं, यदि टीम इंडिया की बात करें तो बुमराह की कप्तानी वाली टीम इस मुकाबले को और सीरीज को तभी जीत सकती है, जब पांचवें दिन के पहले सत्र के पहले 10 ओवरों में जो रूट और जॉनी बेयरेस्टो या उनके बाद आने वाले बेन स्टोक्स को पवेलियन भेज दिया जाए और जल्द ही सैम बिलिंग्स को भी पहले सत्र में आउट कर दे। यदि भारत के तेज गेंदबाज ऐसा करने में नाकाम होते हैं तो फिर पहले सत्र में ही इस मैच का नतीजा निकलने की पूरी संभावना है और भारत की मेहनत पर पानी फिर सकता है।  

आइसलैंड से हारी भारतीय अंडर 17 महिला टीम

ग्रास कोर्ट मुकाबले में जीत हासिल कर क्वाटर्रफाइनल में पहुंचे नोवाक जोकोविच

अपने पहले कभी नहीं देखा होगा इस टेनिस खिलाड़ी का ऐसा अवतार

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -