एससीओ के प्रमुखों की बैठक की मेजबानी करेगा भारत

Nov 29 2020 05:39 PM
एससीओ के प्रमुखों की बैठक की मेजबानी करेगा भारत

भारत, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की अध्यक्षता में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सदस्य देशों के प्रमुखों की एक आभासी बैठक की मेजबानी करना है। इसमें एससीओ (रूस, चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान) के सदस्य राज्यों के 7 प्रधानमंत्रियों - 6 और एक पर्यवेक्षक सदस्य बेलारूस की भागीदारी दिखाई देगी। SCO में 8 सदस्य राज्य और 4 पर्यवेक्षक राज्य हैं। पाकिस्तान के SCO के सदस्य को विदेश मामलों के लिए उसके संसदीय सचिव द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाएगा क्योंकि पाकिस्तानी प्रधान मंत्री इमरान खान बैठक को याद कर रहे हैं।

अन्य तीन पर्यवेक्षक राज्यों का भी प्रतिनिधित्व किया जाएगा। राष्ट्रपति अशरफ गनी अपने उप प्रधानमंत्री द्वारा अपने पहले उप राष्ट्रपति और मंगोलिया द्वारा अफगानिस्तान, ईरान का प्रतिनिधित्व करते हैं। भारत के विदेश मंत्रालय के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया, भारत शांति, सुरक्षा, व्यापार, अर्थव्यवस्था और संस्कृति के क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) को एक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय संगठन मानता है। भारत संगठन में सक्रिय, सकारात्मक और रचनात्मक भूमिका निभाकर एससीओ के साथ अपने सहयोग को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है।

मेजबान ने विशेष अतिथि के रूप में तुर्कमेनिस्तान को आमंत्रित किया है। एससीओ महासचिव व्लादिमीर नोरोव, एससीओ क्षेत्रीय आतंकवाद रोधी संरचना (आरएटीएस) के कार्यकारी निदेशक, एससीओ बिजनेस काउंसिल के अध्यक्ष और एससीओ इंटरबैंक एसोसिएशन भी वर्चुअल मीट में मौजूद रहेंगे। बैठक में भारत का शीर्ष फोकस COVID-19 महामारी, साझा बौद्ध संपर्क की चुनौतियां हैं। राष्ट्रीय संग्रहालय द्वारा साझा बौद्ध विरासत का उद्घाटन, पहले-पहले एससीओ डिजिटल प्रदर्शनी बनाई जानी है। 2020 एससीओ के साथ भारत के औपचारिक सहयोग का 15 वां वर्ष है, देश 2017 में बीजिंग मुख्यालय समूह का पूर्ण सदस्य बन गया है, पहले यह एक पर्यवेक्षक था।

आप अपनी राशियों के अनुसार इतने है साफ या गंदे

ब्रम्हा एक है और उसी से यह संसार पूर्ण है, जानिये वेदों की कुछ ख़ास बाते

मनुष्य को प्रिय ये पांच चीज़े कभी उसके पास नहीं टिकती: शुक्रनीति