कोरोना : पहले चरण में इन देशों को मिलेगी भारत की संजीवनी दवा

हाइड्रोक्सोक्लोरोक्विन (एचसीक्यू) की आपूर्ति दूसरे देशों को भारत ने शुरु कर दी है. भारत की यह शुरूआत कोविड-19 महामारी के लिए संजीवनी साबित हो रही है. वही,  भारत ने अपनी जरुरत को भांपते हुए इस दवा की सप्लाई पर रोक लगा दी थी लेकिन दूसरे देशों की मांग को देखते हुए इसे फिर से बाहर भेजने की अनुमति दे दी गई है. पहले चरण में अमेरिका, ब्रिटेन, स्पेन समेत कुछ और देशों को एचसीक्यू भेजी जाएगी. केंद्र सरकार के इस फैसले का भारतीय कूटनीति पर दीर्घकालिक असर पड़ने की बात कही जा रही है.

स्वास्थ्यकर्मियों के साथ बदसूलुकी करने वालों की खेर नहीं, अमित शाह के पास पहुंचा पत्र

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारत के इस फैसले से सबसे ज्यादा आह्लादित अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दिख रहे हैं. एक दिन पहले ही उन्होंने इस फैसले के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को महान इंसान बताया था जबकि गुरुवार को उन्होंने दोबारा पीएम मोदी व भारत को तहेदिल से धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा है कि असाधारण समय में दोस्तों के बीच और करीब सहयोग होना चाहिए. मैं एचसीक्यू पर फैसला लेने के लिए भारत व भारतीय जनता का धन्यवाद देता हूं. इसे कभी नहीं भूला जा सकता. पीएम नरेंद्र मोदी को भी उनके मजबूत नेतृत्व से सिर्फ भारत को नहीं बल्कि मानवता की मदद करने के लिए धन्यवाद.

महाराष्ट्र के इस शहर में लगा कर्फ्यू, शब-ए-बारात को देखकर लाया गया फैसला

इसके अलावा ट्रंप के इस बयान पर पीएम नरेंद्र मोदी ने जवाब देते हुए कहा कि, ‘’मैं आपकी बात से सहमत हूं, मुश्किल समय ही दोस्तों को करीब लाता है. भारत व अमेरिका की साझेदारी पहले से भी मजबूत है. भारत कोविड-19 से लड़ाई में मानवता की मदद के लिए हरसंभव मदद करेगा. हम साथ मिल कर जीतेंगे.  साफ है कि हाइड्रोक्सोक्लोरोक्विन की आपूर्ति को लेकर दोनो देशों के बीच तनाव जैसा महाल घुला था वह अब खत्म हो चुका है.

HDFC की दो प्रमुख नियुक्ति पर RBI ने लगाई रोक, कहा- पहले CEO नियुक्त करो

तीन चरणों में होगा 'कोरोना' का खात्मा ! मोदी सरकार ने बनाया मास्टर प्लान

लॉकडाउन: दिल्ली के इन 5 रेलवे स्टेशन पर रोज़ाना हज़ारों मजदूरों को मिल रहा भोजन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -