भारत अमीर लेकिन भारतीय गरीब, ये कैसा फंडा है ?

नई दिल्ली : भारत में धन के असमान वितरण का परिणाम अब वैश्विक स्तर पर होने वाले सर्वे में भी दिखने लगा है। भारत दुनिया के 10 अमीर देशों की सूची में शामिल है, यहां कुल संपत्ति 5200 अरब डॉलर है। लेकिन फिर भी भारत गरीब है, तो इसका कारण कहीं न कहीं इसकी बढ़ती आबादी भी है। न्यू वल्र्ड वेल्थ की रिपोर्ट के मुताबिक भारत दुनिया में 10 अति धनाढ्य देशों की सूची में शामिल है और सातवें पायदान पर है।

इस सूची में धनी व्यक्तियों की 48,700 अरब डॉलर की कुल संपत्ति के साथ अमेरिका पहले स्थान पर है। भारत का इस सूची में शामिल होने का कारण ही इसकी जनसंख्या है। प्रति व्यक्ति के आधार पर भारत गरीब है। बीते 15 सालों में भारत तीव्र गति से वृद्धि हासिल करने वाले देश बन गया है। भारत ने बीते वर्ष इटली को भी पछाड़ दिया।

आस्ट्रेलिया और कनाडा अगले एक-दो साल में इटली से आगे निकल जाएंगे। शीर्ष पांच देशों की सूची में चीन कुल 17,300 अरब डालर की व्यक्तिगत संपत्ति के साथ दूसरे नंबर पर है। इसी सूची में जापान (15,200 अरब डालर) तीसरे, जर्मनी (9,400 अरब डालर) चौथे तथा ब्रिटेन (9,200 अरब डालर) पाचवें स्थान पर है। इस सूची में फ्रांस छठें, इटली आठवें, कनाडा नौवें और ऑस्ट्रेलिया 10वें स्थान पर है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -