भारत की चीन को दो टूक- सीमा पर सैनिकों के हटने के बाद ही शांति संभव

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी टकराव पर भारत ने गुरुवार को कहा कि क्षेत्र में संघर्ष के शेष इलाकों से सैनिकों के जल्द पीछे हटने से ही भारत और चीन के लिए हालात सामान्य बनाने पर विचार करने का मार्ग साफ हो सकता है और सीमावर्ती इलाकों में पूर्ण रूप से शांति और समरसता बहाल हो सकती है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने डिजिटल तरीके से आयोजित की गई सप्ताहिक प्रेस वार्ता में यह बात कही है।

उन्होंने कहा कि ऐसे कदमों से ही दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति की संभावना बन सकती है। उन्होंने कहा कि पूर्वी लद्दाख के इन इलाकों से सैनिकों के जल्द पीछे हटने से ही सीमावर्ती क्षेत्रों में पूर्ण रूप से शांति बहाली एवं द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति सुनिश्चित की जा सकती है। उल्लेखनीय है कि भारत और चीन के बीच शीर्ष कमांडर स्तर की 11वें दौर की बातचीत 9 अप्रैल को की गई थी। वहीं सीमा मामलों पर विचार विमर्श एवं समन्वय संबंधी कार्यकारी तंत्र की बैठक 12 मार्च को हुई थी। 

माना जा रहा है कि सीमा मामलों पर विचार विमर्श एवं समन्वय संबंधी कार्यकारी तंत्र की अगली मीटिंग जल्द हो सकती है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इस साल शुरू की गई, सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया के बारे में 30 अप्रैल को अपने चीनी समकक्ष के साथ चर्चा की थी। इस संबंध में मंत्रालय ने कहा था कि सैनिकों के पीछे हटने की कवायद अभी पूरी नहीं हुई है और इसे जल्द पूरा किया जाना चाहिए।

आरके सिंह ने कहा- कम कार्बन प्रौद्योगिकियों पर पैनल स्थापित किया जाएगा

CCI जांच पर फ्लिपकार्ट और अमेजन को कानूनी चुनौती का करना पड़ा सामना: रिपोर्ट

76 पैसे गिरा रुपया, 74 प्रति डॉलर के स्तर से हुआ बंद

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -