पेंशन सुविधाएं देने में भारत पीछे, 34 देशों में पाया 33वां स्थान

नईदिल्ली: भारत में मुख्य रूप से पेंशन सेवा को नौकरी से सेवानिवृत्त होने के बाद ही शुरू किया जाता है और सेवानिवृत्त आय प्रणाली को लेकर बेहतर सुविधाओं के मामले में भारत की हालत बेहद खराब है साथ ही पेंशन सेवा को लेकर एक वैश्विक सूची में भारत का स्थान नीचे से दूसरे नंबर पर है। यहां हम आपको बता दें कि 34 देशों की 34 पेंशन योजनाओं के अध्ययन में यह सामने आया है।

बीजेपी मुझे बदनाम करने के लिए साजिश रच रही है : कन्हैया कुमार

जानकारी के अनुसार मेलबर्न मर्सर ग्लोबल पेंशन इंडेक्स के मुताबिक दुनियाभर की सरकारों के सामने बुजुर्ग आबादी लगातार चुनौती बनी हुई है। वहीं नीतियां बनाने वाले अपने सेवानिवृत्त कर्मियों को आर्थिक सुरक्षा उपलब्ध कराने के दोहरे लक्ष्य में संतुलन बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। वहीं अध्ययन में पाया गया है ​कि भारत अपनी सेवानिवृत्ति आय प्रणाली को मजबूत करने की दिशा में धीमा कार्य कर रहा है, लेकिन फिर भी भारत का स्थान 34 देशों के समूह में 33वें स्थान का है, वहीं ग्रुप-डी में भारत के साथ जापान, चीन, दक्षिण कोरिया, मैक्सिको और अर्जेंटीना देश हैं। 

आरएसएस ने सबरीमाला को युद्ध के मैदान में बदल दिया- पिनरायी विजयन

गौरतलब है कि भारत में वृद्धों के लिए नौकरी से सेवा समाप्त होने पर पेंशन का प्रावधान है और ये अलग अलग विभागों के अनुसार ही दी जाती है। वहीं इस सूची में 80.3 अंक के साथ नीदरलैंड और 80.2 अंक के साथ डेनमार्क क्रमश: पहले और दूसरे पायदान पर हैं। दोनों ही देश ए-श्रेणी की बेहतर सुविधाएं विश्व स्तरीय सेवानिवृत्त आय प्रणाली के साथ उपलब्ध कराते हैं। 

 
खबरें और भी 

वाल्मीकि जयंती के अवसर पर, देवगौड़ा को मिलेगा महर्षि वाल्मीकि सम्मान

सीबीआई का झगड़ा पहुंचा दिल्ली हाई कोर्ट, डीएसपी देवेंद्र कुमार की हुई पेशी

एक नहीं बल्कि दो बार होगा दीपवीर का रिसेप्शन, यहाँ जानिए शादी की पूरी डिटेल्स

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -