शांति और विकास के लिए एक दूसरे के साथ आए भारत - पाक

रूस : भारत और पाकिस्तान एक बार फिर आपसी चर्चा के लिए तैयार हुए हैं। दरअसल आज सुबह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने एक दूसरे के साथ गर्मजोशी से हाथ मिलाया। इसके साथ दोनों ही नेताओं के बीच वार्ता प्रक्रिया प्रारंभ हुई। इस दौरान दोनों देशों के राजनयिकों की भेंट भी हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले से ही कमरे में मौजूद रहकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ का इंतज़ार कर रहे थे। इस दौरान दोनों ही देशों के प्रधान नेताओं ने एक दूसरे के राजनयिकों से भी हाथ मिलाकर परिचय प्राप्त किया। इसके बाद दोनों देशों के नेताओं के बीच बंद कमरे में काफी देर तक चर्चा चलती रही।

भारत की ओर से वार्ता की पहल करने को काफी सराहा जा रहा है। मामले को लेकर भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिवों ने संयुक्तरूप से पत्रकारों को जानकारी दी। इस दौरान भारत के विदेश सचिव एस. जयशंकर ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि आतंकवाद के मसले पर दोनों देशों के नेताओं के बीच बातचीत हुई। जिसमें आतंकवाद की निंदा की गई। इसमें यह तय किया गया कि दोनों देश अपनी एडिशनल इंफाॅर्मेशन को एक दूसरे से साझा करेंगे। दोनों देश शांति और विकास के मसले पर एक दूसरे के साथ आए। दूसरी ओर पाकिस्तान के विदेश सचिव एजाए अहमद चौधरी ने कहा कि यह दो देशों के नेताओं की सद्भावनापूर्ण मुलाकात रही।

जिसमें दोनों देश एक दूसरे के साथ विकास के मसले पर साथ आए। तो दूसरी ओर आतंकवाद को समाप्त करने के लिए दोनों ने एक दूसरे से सहमति जताई। दोनों देश एक दूसरे के साथ मछुआरों की रिहाई, सीमा विवाद को लेकर डीजी स्तर की बैठक में चर्चा को लेकर राजी हुए। दूसरी ओर बैठक में यह भी तय किया गया कि दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार आतंक के मसले पर दिल्ली में मिलेंगे। यही नहीं पाकिस्तान द्वारा मुंबई में हुए 26/11 के आतंकी हमले पर सहयोग के लिए तैयार हुआ है। इस दौरान उसने आवाज के सैंपल देने के लिए सहमति जताई। कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री अगले वर्ष सार्क सम्मेलन के लिए पाकिस्तान की यात्रा पर जा सकते हैं। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -