चीन बॉर्डर तक भारत ने बनाई सड़क, अब सैनिकों को पहुँचने में होगी आसानी

पिथौरागढ़: लगभग एक दशक के लंबे इंतजार के बाद चीन बॉर्डर को जोड़ने वाली लिपुलेख सड़क बनकर तैयार हो चुकी है। जिसे केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने देश को समर्पित किया. उन्होंने दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पिथौरागढ़ ज़िले में सड़क का शुभारम्भ भी किया. इस दौरान राजनाथ सिंह ने हरी झंडी दिखाते हुए ITBP और SSB के छोटे वाहनों को धारचूला इलाके के लिए रवाना किया.

चीन बॉर्डर तक सड़क बनने से देश सामरिक रूप से सशक्त हुआ है. क्योंकि इससे आर्मी के साथ-साथ कैलाश मानसरोवर के श्रद्धालुओं  को भी बड़ी राहत मिलेगी. पिथौरागढ़ के नैनी-सैनी हवाई अड्डे पर आयोजित ई उद्घाटन कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सड़क निर्माण को लेकर BRO को बधाई दी, साथ ही सड़क को सामरिक नजरिये से अहम् करार दिया. वहीं जिला प्रशासन और BRO के अधिकारियों ने नैनी-सैनी हवाई अड्डे से सेना और अर्धसैनिक बलों के वाहनों को लिपुलेख के लिए रवाना किया .  सिविल गाड़ियां को भी कुछ दिनों बाद सड़क पर संचालन की इजाजत दे दी जाएगी.

चीन बॉर्डर को जोड़ने वाली इस सड़क के निर्माण से सरहद पर तैनात सेना और अर्धसैनिक बलों के जवानों को आवाजाही में सुविधा होगी. आर्मी, आईटीबीपी और एसएसबी के जवान अग्रिम पोस्ट्स तक वाहनों से पहुंच सकेंगे.

Indigo : कंपनी ने कर्मचारियों को वेतन के मामले में दिया तगड़ा झटका

रतन टाटा ने इस छोटे से स्टार्टअप में किया निवेश

व्हाइट हाउस में गूंजे वेद मंत्र, कोरोना से मुक्ति के लिए राष्ट्रपति ट्रम्प ने कराया 'शांति पाठ'

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -