कम और मध्यम आय वाले देशों में भारत का स्थान 37 वां

भारत में विकास और वृद्धि की चाल को कमजोर होता देख वैश्विक रैंकिंग में भी इसका स्थान निचला बना हुआ है, जबकि यदि बात करे कारोबार व राजनीती की तो इस लहजे से भारत का स्थान अच्छा बना हुआ है. विश्व आर्थिक मंच ने प्रतिव्यक्ति आय को ध्यान में रखते हुए की गई वैश्विक रैंकिंग में यह पाया है कि ज्यातदार देश आय को लेकर असमानता को कम करने के कई मौके गवां रहे है और इन देशों में एक नाम भारत का भी शामिल है.

जी हाँ इस रैंकिंग में यह बात सामने आई है कि भ्रष्टाचार को लेकर भारत का स्थान आठवां बना हुआ है लेकिन यहीं अगर बात करे कारोबार और राजनीती की तो इसमें भारत का 12 वां स्थान है जबकि अर्थव्यवस्था में निवेश को लेकर भारत को 11 वां स्थान मिला है. मामले में यह भी सामने आया है कि पिछले दो सालों में इस बात का पता लगाया गया है कि किस तरह से आर्थिक वृद्धि और समानता दोनों को साथ साथ आगे बढ़ाया जा सकता है.

भारत को कम और माध्यम आय वाले 38 देखों कि लिस्ट में रखा गया है और इनमे भारत का स्थान 37 वां बताया जा रहा है. जबकि यह सामने आया है कि स्विट्जरलैंड बुनियादी ढांचे और सेवाओं के लिहाज से शीर्ष पर बना हुआ है. मंच का यह भी कहना है कि लघु कारोबार से लगे हुए परिसम्पत्ति निर्माण और उद्धमशीलता को लेकर भारत को मजबूत होने की जरुरत है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -