भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में हुआ जबरदस्त इजाफा, गोल्ड रिजर्व भी हुआ मजबूत

नई दिल्ली: देश का विदेशी मुद्रा भंडार 15 अक्टूबर को समाप्त हुए सप्ताह में 1.492 अरब डॉलर की बढ़त के साथ 641.008 अरब डॉलर पर पहुंच गया है. भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने शुक्रवार को इस संबंध में डेटा जारी किया है. 8 अक्टूबर को खत्म हुए इससे पिछले सप्ताह में भंडार में 2.039 अरब डॉलर की वृद्धि हुई थी और यह 639.516 अरब डॉलर हो गया था. रिजर्व 3 सितंबर 2021 को खत्म हुए सप्ताह में 642.453 अरब डॉलर की सर्वकालिक ऊंचाई पर आ गया था.

15 अक्टूबर को खत्म हुए समीक्षाधीन हफ्ते में, विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि का प्रमुख कारण फॉरेन करेंसी एसेट्स (FCAs) में इजाफा रहा, जो कुल रिजर्व का मुख्य हिस्सा है. रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) द्वारा जारी साप्ताहिक डेटा के अनुसार, FCAs 950 मिलियन डॉलर की बढ़त के साथ 577.951 अरब डॉलर पर पहुंच गए हैं. बता दें कि डॉलर की टर्म में देखे जाने वाला, फॉरेन करेंसी एसेट्स में नॉन-यूएस यूनिट्स जैसे यूरो, पाउंड और येन में वृद्धि या गिरावट का असर शामिल होता है, जो फॉरेन एक्सचेंज रिजर्व में शामिल हैं.

डेटा के अनुसार, समीक्षाधीन सप्ताह में गोल्ड का रिजर्व भी 557 मिलियन डॉलर की वृद्धि के साथ 38.579 अरब डॉलर पर पहुंच गया. वहीं, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के पास मौजूद स्पेशल ड्राइंग राइट्स (SDRs) 21 मिलियन डॉलर लुढ़ककर 19.247 अरब डॉलर पर आ गए हैं. IMF के साथ देश की रिजर्व स्थिति 6 मिलियन डॉलर की बढ़त के साथ 5.231 अरब डॉलर पर पहुंच गई है.

महंगाई का एक और झटका, 14 साल बाद अचानक इतने बढ़ गए माचिस के दाम

पेटीएम को 16,600 करोड़ रुपये के IPO के लिए सेबी की मिली मंजूरी

गिरावट के साथ बंद हुआ बाजार, जानिए क्या है सेंसेक्स का हाल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -