मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड में भारत पहुंचा 132वें पायदान पर

 भारत में टेलीकॉम कंपनियां अपने इंटरनेट स्पीड को लेकर भले ही बड़े-बड़े दावे कर लें, लेकिन सच्चाई यह है कि मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड में भारत की स्थिति पाकिस्तान और नेपाल से भी खराब है। मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड में भारत तीन पायदान नीचे खिसक पर 132वें पायदान पर पहुंच गया है।ऊकला स्पीड टेस्ट के अप्रैल 2020 के आंकड़े बताते हैं कि भारत में मोबाइल ब्रॉडबैंड की औसत डाउनलोडिंग स्पीड 9.81Mbps और औसत अपलोड स्पीड 3.98Mbps रही है। Ookla हर महीने मोबाइल ब्रॉडबैंड की स्पीड को लेकर करीब 139 देशों की लिस्ट बनाती है। 

लिस्ट बनाने से पहले लाखों की संख्या में डाटा इकट्ठा किया जाता है।ऊकला ने अप्रैल 2020 में मोबाइल ब्रॉडबैंड की स्पीड को लेकर 139 देशों की लिस्ट जारी की है जिसमें भारत का स्थान 132वां है। रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल में दुनियाभर में मोबाइल ब्रॉडबैंड की औसत डाउनलोडिंग स्पीड 30.89Mbps और अपलोडिंग स्पीड 10.50Mbps रही है।

नई रिपोर्ट के मुताबिक मोबाइल ब्रॉडबैंड के मामले में  88.01Mbps की अधिकतम स्पीड के साथ दक्षिण कोरिया पहले पायदान पर है, जबकि टॉप चार देशों की लिस्ट में कतर, चीन, यूएई और नीदरलैंड का नाम है।पाकिस्तान को औसत मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड में 112वां स्थान मिला है, वहीं नेपाल 111वें नंबर है। भारत का पड़ोसी देश श्रीलंका भी 115वें पायदान पर और बांग्लादेश 130वें स्थान पर है, जबकि भारत को 132वां स्थान मिला है।

डार्क वेब पर लीक हुआ 2.9 करोड़ भारतीयों का डाटा

BSNL ने लॉन्च किया Eid 2020 का स्पेशल प्लान

डार्क नेट पर हो रही रक्त प्लाज्मा की अवैध बिक्री

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -