भारत-चीन के बीच सीमा विवाद का अंत भी जरुरी : जेटली

नई दिल्ली : केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली द्वारा कहा गया है कि सरकार चीन के साथ लंबे समय से चला आ रहा अपना सीमा विवाद हल करने की इच्छा रखता है। उन्होंने कहा कि यहां की सीमा देश के पश्चिमी क्षेत्र से लगी सीमा से अधिक शांत है लेकिन भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को हल किया जाना दोनों देशों की भविष्य की जरूरत है। दूसरी ओर दोनों देशों का व्यापार काफी करीब लाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों का आर्थिक संबंध मजबूती का आधार है।

यदि दोनों ही देश परस्पर निवेश की बात करें तो यह काफी अच्छा होगा। चीन के लिए भारत एक बड़ा बाजार है तो भारत चीन की मैन पाॅवर की पूर्ति कर सकेगा। सीमा पर विवाद नहीं होना बेहद जरूरी है। चीन को मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के माध्यम से रेलवे, कंप्युटर, इंफाॅर्मेशन तकनीक, मोबाईल आदि क्षेत्रों में अच्छा रिस्पांस भारत से ही मिल सकता है।

दरअसल दोनों देशों में विकास की प्रतिस्पर्धा यह नहीं कहती कि दोनों ही देश एक दूसरे के विरोधी हैं। इस दौरान पत्रकारों से चर्चा करते हुए केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि दोनों ही देश एक दूसरे की पूरक हैं और एक दूसरे पर आश्रित हैं। उन्होंने कहा कि इन देशों को सीमा विवाद से अपने संबंध खराब नहीं करना चाहिए। जब दोनों ही देश विकास की ओर परस्पर हाथ बढ़ाऐंगे तो स्थितियां दोनों के पक्ष में होंगी। चीन में आने वाली मंदी का देश पर किसी तरह का प्रभाव नहीं पड़ेगा। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

मुख्य समाचार

- Sponsored Advert -