उग्रवाद के खात्मे में जुटी भारत और म्यांमार की सेना, चल रहा 'ऑपरेशन सनराइज-2'

Jun 17 2019 08:00 PM
उग्रवाद के खात्मे में जुटी भारत और म्यांमार की सेना, चल रहा 'ऑपरेशन सनराइज-2'

नई दिल्ली: नॉर्थ ईस्ट सीमा से सटे बॉर्डर क्षेत्र में भारत और म्यांमार की सेना उग्रवादियों के विरुद्ध संयुक्त अभियान चला रही है. बीते कुछ समय से म्यांमार सेना को इस अभियान में समस्या आ रही है. 'ऑपरेशन सनराइज-2' नाम से चल रहे इस ऑपरेशन में भारतीय सेना से सम्बंधित सूत्रों ने दावा किया है कि उन्होंने अपने क्षेत्र में जहां 60 से अधिक अलग-अलग गुटों के उग्रवादियों को हिरासत में लेकर उनके कई कैंप को नष्ट कर दिए हैं, वहीं म्यांमार सेना को इस अभियान में काफी नुकसान होने की खबर है.

सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार उग्रवादी गुट आराकन आर्मी के खिलाफ बीते महीने 15 से 19 मई के ऑपरेशन में कम से कम 13 म्यांमार सैनिक मारे गए थे. भारत म्यांमार सीमा पर निगाह रखने वाले अधिकारियों के अनुसार 1640 किमी लम्बी बॉर्डर पर उग्रवादियों के कई कैंप हैं. ऐसे में म्यांमार आर्मी को कई फ्रंट पर जंग लड़नी पड़ रही है, जिससे उनके लिए स्थितियां और मुश्किल होती जा रही है.

एक अधिकारी के अनुसार, 'रखाइन में आतंकी गुट आराकन रोहिंगिया सोलवेसन आर्मी (ARSA) निरन्तर म्यांमार सेना पर हमले कर रहा है, वहीं आराकन आर्मी और NSCN (K) जैसे उग्रवादी संगठनों के खिलाफ भी उसे अभियान चलाना पड़ रहा है. म्यांमार सेना के पास इन उग्रवादी गुटों के विरुद्ध लड़ने के लिए आधुनिक हथियारों की भी आवश्यकता है, जो अब तक उनके पास नहीं है. ऐसे में उग्रवाद की ये समस्या मात्र उनकी नहीं है, क्योंकि इसका प्रभाव भारत पर भी पड़ सकता है.

सर्वाइकल पैन से छुटकारा दिलाएंगे ये आसन..

भारत सरकार ने लिया इन अमेरिकी वस्तुओं पर आयात शुल्क लगाने का निर्णय

शेयर बाजार पर भी असर डालेगी मानसून की रफ़्तार