भारत और चीन की कमांड शक्तिशाली हाथों में

Apr 18 2015 12:17 AM
भारत और चीन की कमांड शक्तिशाली हाथों में
न्यूयॉर्क : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिका से लगातार तारीफे मिल रही है। अमेरिका की प्रतिष्ठित टाइम पत्रिका ने एक बार फिर मोदी की प्रशंसा की है। पत्रिका ने भारत और चीन दोनों देशों के बारे में लिखा है की दोनों देशो की कमान आज ऐसे "ताकतवर नेताओं" के हाथ में है जो इतिहास पर अपनी छाप छोड़ने के लिए बेताब हैं। मेग्जीन ने एक दिन पहले ही दुनिया के 100 प्रभावशाली नेताओं में मोदी का नाम शुमार किया था। 

पत्रिका ने कहा कि 2015 के लिए टाइम की 100 प्रभावशाली लोगों की सूची का निष्कर्ष यह है कि एशिया में कई वर्षो तक उदासीन नेताओं के शासन के बाद अब मजबूत नेताओं की पीढ़ी सत्ता में है। टाइम पत्रिका ने कहा कि दुनिया के दो सबसे गतिशील देशों चीन और भारत में बीते कई वर्षों से गतिहीन शासन रहा। वर्ष 2002 से 2012 तक चीन को "बेरंग और सतर्क" रहकर काम करने वाले राष्ट्रपति हू जिंताओ चला रहे थे। 

वहीं, भारत में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक दशक तक "उदासीन शासन" किया। टाइम पत्रिका ने कहा कि लेकिन आज चीन और भारत दोनों को ही ताकतवर नेता चला रहे हैं। पत्रिका ने पिछले साल अमेरिका यात्रा के दौरान मेडिसन स्क्वायर गार्डन पर मोदी के रॉक स्टार सरीखे भव्य स्वागत का हवाला देते हुए कहा कि दुनिया में ऐसे बहुत कम नेता हैं जिनके लिए मेडिसन स्क्वायर में इतनी भीड़ जुट सकती है। 

अपने कई पूर्ववर्तियों से अलग, मोदी ने आगे बढ़कर नेतृत्व किया है और उन्होंने एक प्रभावशाली अंतरराष्ट्रीय कद बना लिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी गुरुवार को पत्रिका के लिए लिखे गए मोदी के प्रोफाइल में उनकी जमकर तारीफ की थी।