आजाद हिंद फौज के डेनियल छोड़ गये दुनिया को

मुंबई : देश की आजादी में हिस्सा लेने वाले डेनियल काले इस दुनिया को छोड़कर चले गये है। उन्होंने आजाद हिन्द फौज में रहकर देश की आजादी के लिये लड़ाई लड़ी थी। बताया गया है कि डेनियल काले आजाद हिन्द फौज के अंतिम जीवित सिपाही बचे हुये थे। परिजनों के अनुसार 95 वर्ष की उम्र में उनका निधन हुआ है।

बीमारी के चलते उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने अपने जीवन की अंतिम सांस ली। काले के परिजनों ने बताया कि वे नेताजी सुभाषचंद्र बोस की आजाद हिन्द फौज में सीक्रेट सर्विस समूह के महत्वपूर्ण व्यक्ति थे और बोस ने उनकी तैनाती भारत -बर्मा सीमा पर कर रखी थी।

वहीं से उन्होंने अंग्रेजों की नाक में दम कर रखा था। उनका जन्म 1920 में पान्हाला तहसील में हुआ था। बचपन से ही उन्होंने देश की आजादी के आंदोलन में हिस्सा लेना शुरू कर दिया था और बाद में वे आजाद हिन्द फौज का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गये। जानकारी के अनुसार उनके निधन के बाद अब आजाद हिन्द फौज का कोई सिपाही जीवित नहीं बचा है। काले के निधन पर गणमान्य नागरिकों ने शौक व्यक्त किया है।

सुभाषचंद्र बोस के पड़पोते चंद्रबोस हुए BJP में शामिल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -