कोरोना से लड़ने के लिए पाक के पीएम ने फैलाए हाथ, कहा- 'विदेशों में बैठे नागरिक करें आर्थ‍िक मदद'

कोरोना से लड़ने के लिए पाक के पीएम ने फैलाए हाथ, कहा- 'विदेशों में बैठे नागरिक करें आर्थ‍िक मदद'

इस्लामबाद: एकाएक बढ़ा ही जा रहा कोरोना का प्रकोप आज पूरी दुनिया के लिए महामारी का रूप लेता रहा है. वही  इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 19000 से अधिक मौते हो चुकी है. लेकिन अब भी यह मौत का खेल थमा नहीं है. इस वायरस ने आज पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है. कई देशों के अस्पतालों में बेड भी नहीं बचे है तो कही खुद डॉ. इस वायरस का शिकार बनते जा रहें है.  पाकिस्‍तान में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्‍या 990 तक जा पहुंची है. इसकी वजह से देशभर में 7 मौत हो चुकी हैं. 

पाक की ख़बरों के मुताबिक इससे सबसे अधिक प्रभावित सिंध है जहां पर अब तक 410 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं दूसरे नंबर पर पंजाब में 296 मामले, तीसरे नंबर पर बलूचिस्‍तान में 110, चौथे नंबर पर गुलाम कश्‍मीर 81 मामले, पांचवें पर खैबर पख्‍तूंख्‍वां में 78 मामले और छठे नंबर पर इस्‍लामाबाद है जहां इस वायरस के 15 मामले सामने आए हैं. देश के कई प्रांतों में लॉकडाउन किया जा चुका है. इसके बाद भी लोग इसके नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं. यही वजह है कि इससे परेशान प्रधानमंत्री इमरान खान ने सख्‍त संदेश दिया है कि यदि ऐसा ही रहा और लोग अपनी इस आदत से बाज नहीं आए तो उन्‍हें मजबूरन कर्फ्यू का एलान करना पड़ेगा. ऐसे में इसके अलावा कोई दूसरा विकल्‍प उनके पास नहीं रहेगा. उन्‍होंने इससे लड़ने के लिए विदेशों में बैठे अपने नागरिकों से आर्थिक मदद भी मांगी है.

माली हालत बेहद खराब, मदद करें विदेशों में बैठे नागरिक: मिली जानकारी के अनुसार इसबात का पता चला है  कि पाक के पीएम इमरान खान ने ये बात टीवी पर एक इंटरव्‍यू के दौरान कहीं हैं. इस दौरान उन्‍होंने एक बार फिर से देश की खराब माली हालत का जिक्र किया और कहा कि दुनिया को चाहिए कि वो उन्‍हें आर्थिक मदद दे. इसकी वजह है कि उनके देश की हालत इटली और दूसरे यूरोपीय देशों की तरह नहीं है, जहां कर्फ्यू के दौरान भी लोगों को हर चीज मुहैया करवाई जा सकती है. उन्‍होंने विदेशों में बसे अपने नागरिकों से भी अपील की है कि वो इस मुश्किल हालात में देश और उनके नागरिकों की आर्थिक मदद करें.

ब्रिटेन में कोरोना की बढ़ी मार, मरने वालों की संख्या 463 के पार

स्पेन में लॉकडाउन के बाद भी मौत का सिलसिला जारी

आखिर क्यों पूरी तरह लॉकडाउन नही चाहते ट्रंप ?