अगर आपके बच्चे डोनट्स खाने की मांग करते हैं तो पहले जान लें इसके गंभीर परिणाम

अगर आपके बच्चे डोनट्स खाने की मांग करते हैं तो पहले जान लें इसके गंभीर परिणाम
Share:

डोनट्स रंग-बिरंगे, मीठे होते हैं और अक्सर स्प्रिंकल्स या आइसिंग से सजाए जाते हैं जो हर बच्चे का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करते हैं। उनका आकर्षण निर्विवाद है - लेकिन सतह के नीचे और भी बहुत कुछ है।

छिपी हुई शक्कर

समस्या सिर्फ़ दिखने वाली चीनी की परत ही नहीं है। कई डोनट्स में छिपी हुई चीनी होती है जो बच्चों के दैनिक सेवन को स्वास्थ्यवर्धक सीमा से कहीं ज़्यादा बढ़ा देती है।

पोषक तत्वों की कमी

आवश्यक पोषक तत्वों की कमी

डोनट्स में कैलोरी अधिक होती है लेकिन ज़रूरी पोषक तत्व कम होते हैं। जब बच्चे डोनट्स खाते हैं, तो वे विकास और वृद्धि के लिए ज़रूरी ज़रूरी विटामिन और खनिज नहीं ले पाते।

खाली कैलोरी

ये व्यंजन "खाली कैलोरी" से भरे होते हैं, जिसका मतलब है कि वे ऊर्जा तो देते हैं लेकिन पोषण संबंधी कोई लाभ नहीं देते। अगर इनका सेवन अधिक मात्रा में किया जाए तो यह कुपोषण का कारण बन सकता है।

शारीरिक स्वास्थ्य पर प्रभाव

वजन बढ़ना और मोटापा

नियमित रूप से डोनट्स खाने से अस्वस्थ वजन बढ़ सकता है और मोटापा भी हो सकता है। ये उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ कैलोरी सेवन और व्यय के बीच महत्वपूर्ण असंतुलन पैदा कर सकते हैं।

मधुमेह का खतरा

डोनट्स में मौजूद उच्च चीनी सामग्री टाइप 2 मधुमेह के विकास के जोखिम को बढ़ाती है। यह विशेष रूप से चिंताजनक है क्योंकि बचपन में मधुमेह वैश्विक स्तर पर बढ़ रहा है।

दंत स्वास्थ्य पर प्रभाव

दांतों में सड़न

मीठे खाद्य पदार्थ बच्चों में दांतों की सड़न का एक प्रमुख कारण हैं। डोनट्स में मौजूद चीनी मुंह में बैक्टीरिया को बढ़ावा देती है, जिससे दांतों में सड़न और अन्य दंत समस्याएं होती हैं।

महंगे दंत उपचार

मीठे खाद्य पदार्थों के लगातार सेवन से दंतचिकित्सक के पास बार-बार जाना पड़ सकता है, जो माता-पिता और बच्चों दोनों के लिए महंगा और तनावपूर्ण हो सकता है।

व्यवहार संबंधी मुद्दे

शुगर का उच्च स्तर और गिरावट

डोनट्स खाने के बाद रक्त शर्करा के स्तर में तेजी से वृद्धि के कारण अति सक्रियता हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप मूड में उतार-चढ़ाव और चिड़चिड़ापन हो सकता है।

ध्यान और सीखने की समस्याएं

चीनी के अधिक सेवन से ध्यान की अवधि कम होने और सीखने में कठिनाई होने की बात सामने आई है। इससे स्कूल में बच्चे के प्रदर्शन और समग्र संज्ञानात्मक विकास पर असर पड़ सकता है।

दीर्घकालिक स्वास्थ्य परिणाम

दिल की बीमारी

डोनट्स में वसा और चीनी की उच्च मात्रा हृदय रोग के विकास में योगदान करती है। बचपन में अस्वास्थ्यकर खाने की आदतें अपनाने से बाद में गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

ख़राब आहार संबंधी आदतें

जो बच्चे अक्सर डोनट्स खाते हैं, उनमें अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों के प्रति रुचि विकसित हो सकती है, जिससे बड़े होने पर उनके लिए स्वस्थ भोजन की आदतें अपनाना कठिन हो जाता है।

लालसाओं को कैसे संबोधित करें

स्वस्थ विकल्प उपलब्ध कराना

डोनट्स की जगह, फल, साबुत अनाज के स्नैक्स या कम चीनी वाले घर के बने व्यंजन देने की कोशिश करें। ये नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभावों के बिना मीठा खाने की लालसा को संतुष्ट कर सकते हैं।

बच्चों को शिक्षित करना

बच्चों को स्वस्थ भोजन के महत्व के बारे में सिखाएँ। समझाएँ कि भोजन उनके शरीर और दिमाग को कैसे प्रभावित करता है, और उन्हें स्वस्थ भोजन तैयार करने में शामिल करें।

संतुलित आहार बनाना

संयम ही कुंजी है

अगर आपके बच्चे डोनट्स का आनंद लेते हैं, तो उन्हें कभी-कभार डोनट्स खाने देना ठीक है। मुख्य बात यह है कि उन्हें संतुलित आहार दिया जाए और सुनिश्चित किया जाए कि उन्हें फल, सब्ज़ियाँ, प्रोटीन और साबुत अनाज से भरपूर आहार मिले।

नियमित भोजन और नाश्ता

सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे नियमित रूप से भोजन करें और दिन भर स्वस्थ नाश्ता करें, ताकि उन्हें भूख न लगे और मीठे खाद्य पदार्थों की ओर आकर्षित होने की उनकी इच्छा कम हो।

शारीरिक गतिविधि को प्रोत्साहित करना

सक्रिय खेल

अपने बच्चों को उन शारीरिक गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें जो उन्हें पसंद हैं, जैसे खेल, नृत्य, या बाहर खेलना। इससे उनके कैलोरी सेवन को संतुलित करने में मदद मिलती है और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है।

पारिवारिक गतिविधि

ऐसी पारिवारिक गतिविधियों की योजना बनाएँ जिनमें शारीरिक गतिविधि शामिल हो, जैसे कि पैदल चलना, साइकिल चलाना या साथ में खेल खेलना। इससे पूरे परिवार के लिए एक स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा मिलता है।

स्वस्थ आदतों की भूमिका मॉडलिंग

माता-पिता का प्रभाव

बच्चे अक्सर अपने माता-पिता के व्यवहार की नकल करते हैं। स्वस्थ भोजन चुनकर और सक्रिय जीवनशैली अपनाकर, आप अपने बच्चों के लिए एक सकारात्मक उदाहरण पेश करते हैं।

भोजन तैयार करने में बच्चों को शामिल करना

अपने बच्चों को भोजन की योजना बनाने और उसे तैयार करने में शामिल करें। इससे उनके लिए स्वस्थ भोजन करना ज़्यादा रोमांचक और शिक्षाप्रद बन सकता है।

साथियों के दबाव से निपटना

सामाजिक परिस्थितियों से निपटना

अपने बच्चों को सिखाएं कि वे स्वस्थ विकल्प कैसे चुनें, भले ही वे दोस्तों के साथ हों या सामाजिक कार्यक्रमों में हों, जहां अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थ मौजूद हो सकते हैं।

आत्मविश्वास का निर्माण

अपने बच्चों को सहयोग देकर तथा उन्हें सूचित निर्णय लेने के लिए आवश्यक ज्ञान प्रदान करके उनके निर्णयों में आत्मविश्वास पैदा करने में सहायता करें।

खाद्य लेबल को समझना

पढ़ने की सामग्री

अपने आप को और अपने बच्चों को खाद्य पदार्थों के लेबल पढ़ने के बारे में शिक्षित करें। सामग्री और पोषण संबंधी जानकारी को समझने से किराने की दुकान पर स्वस्थ विकल्प चुनने में मदद मिल सकती है।

छिपी हुई शर्करा की पहचान

खाद्य पदार्थों में छिपी हुई चीनी की पहचान करना सीखें, इसके लिए सामग्री लेबल पर सूचीबद्ध चीनी के विभिन्न नामों को जानें। इससे आपको अत्यधिक मात्रा में अतिरिक्त चीनी वाले उत्पादों से बचने में मदद मिल सकती है।

स्वस्थ भोजन के लिए व्यावहारिक सुझाव

घर पर बने व्यंजन

घर पर ही अपनी पसंदीदा मिठाई का स्वयं का संस्करण बनाएं, जिसमें आप सामग्री पर नियंत्रण रख सकें और चीनी की मात्रा कम कर सकें।

संतुलित नाश्ता

अपने बच्चों को तृप्त और संतुष्ट रखने के लिए प्रोटीन, फाइबर और स्वस्थ वसा युक्त संतुलित नाश्ता उपलब्ध कराएं।

हाइड्रेशन

अपने बच्चों को मीठे पेय पदार्थों के बजाय पानी पीने के लिए प्रोत्साहित करें। उचित जलयोजन समग्र स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है और यह चीनी की लालसा को कम करने में मदद कर सकता है।

नींद का महत्व

नींद और भूख

सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे पर्याप्त नींद लें। नींद की कमी से भूख और मीठा खाने की लालसा बढ़ सकती है।

दिनचर्या स्थापित करना

अपने बच्चों को दिन में अच्छी तरह से कार्य करने और स्वस्थ विकल्प चुनने के लिए आवश्यक आराम पाने में मदद करने के लिए सोने के समय की एक नियमित दिनचर्या बनाएं।

सकारात्मक सुदृढीकरण

स्वस्थ विकल्पों को पुरस्कृत करना

स्वस्थ खाने की आदतों को प्रोत्साहित करने के लिए सकारात्मक सुदृढीकरण का उपयोग करें। जब आपके बच्चे मीठे स्नैक्स के बजाय पौष्टिक खाद्य पदार्थ चुनते हैं, तो उनकी प्रशंसा करें और उन्हें पुरस्कृत करें।

मज़ेदार प्रवृतियां

सीखने की प्रक्रिया को आनंददायक बनाने के लिए स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देने वाली मनोरंजक गतिविधियों को शामिल करें, जैसे खाना पकाने की कक्षाएं या बागवानी।

निष्कर्ष

स्वास्थ्य और उपचार में संतुलन

डोनट्स कभी-कभार ही खाए जा सकते हैं, लेकिन बच्चों के स्वास्थ्य पर इनके असर को समझना बहुत ज़रूरी है। अपने बच्चों को शिक्षित करके, स्वस्थ विकल्प देकर और संतुलित जीवनशैली को बढ़ावा देकर, आप उन्हें ऐसी आदतें विकसित करने में मदद कर सकते हैं जो उनके पूरे जीवन में फ़ायदेमंद रहेंगी।

छोटे कदम उठाना

आज छोटे-छोटे बदलाव करने से आपके बच्चे के स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण सुधार हो सकता है। सरल समायोजन से शुरुआत करें, और धीरे-धीरे अपने परिवार की दिनचर्या में और अधिक स्वस्थ आदतें शामिल करें।

डिलीवरी के बाद आपकी स्किन डल हो गई है या आपकी टेंशन बढ़ रही है, जानिए क्या करें और क्या न करें

कीमोथेरेपी के बाद कैंसर के मरीज को किस तरह की डाइट फॉलो करनी चाहिए, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

पेरेंटिंग टिप्स: मां-बेटी का रिश्ता कैसा होना चाहिए?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -