आइब्रो के डैंड्रफ से हो गए हैं परेशान तो ऐसे पाएं छुटकारा

आइब्रो के डैंड्रफ से हो गए हैं परेशान तो ऐसे पाएं छुटकारा
Share:

जब हम डैंड्रफ के बारे में बात करते हैं, जिसे आमतौर पर केवल स्कैल्प पर होने वाली समस्या के रूप में समझा जाता है, तो वास्तविकता अलग होती है। डैंड्रफ भौंहों को भी प्रभावित कर सकता है, जिससे वे परतदार दिखाई देती हैं और रगड़ने पर उस क्षेत्र की त्वचा में जलन होती है। इसलिए, स्कैल्प डैंड्रफ की तरह ही भौंहों के डैंड्रफ को ठीक करना बहुत ज़रूरी है, खासकर तब जब भौहें चेहरे की एक महत्वपूर्ण विशेषता होती हैं, जो मेकअप लगाने के बाद विशेष रूप से ध्यान देने योग्य होती हैं।

ऑयली स्किन वाले लोगों को डैंड्रफ की समस्या ज़्यादा होती है। इसके अलावा, सोरायसिस, एक्जिमा या एलर्जी जैसी स्थितियाँ समस्या को और बढ़ा सकती हैं। अगर आप इस समस्या से निपटना चाहते हैं, तो इन घरेलू उपायों पर विचार करें:

नीम का तेल:
नीम के तेल में एंटी-फंगल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। एक कॉटन बॉल पर थोड़ा सा नीम का तेल लें और इसे रोज़ाना अपनी भौंहों पर लगाएँ। यह डैंड्रफ के कारण होने वाली परेशानी को कम करने में मदद कर सकता है।

बादाम का तेल:
बादाम के तेल में जिंक, विटामिन और फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होते हैं। बादाम के तेल को हल्का गर्म करें, अपनी उंगलियों का उपयोग करके इसे अपनी भौहों पर लगाएं, धीरे से मालिश करें और इसे रात भर के लिए छोड़ दें। अगली सुबह गुनगुने पानी से धो लें।

मेथी के बीज:
मेथी में न केवल एंटी-फंगल गुण होते हैं, बल्कि इसमें अमीनो एसिड भी होते हैं जो त्वचा पर यीस्ट को खत्म करने में मदद करते हैं। एक चम्मच मेथी के बीजों को रात भर पानी में भिगोएँ, अगले दिन उन्हें पीसकर पेस्ट बना लें, अपनी भौहों पर लगाएँ, धीरे से मालिश करें और ठंडे पानी से धोने से पहले कुछ मिनट के लिए छोड़ दें।

एलोवेरा जेल:
एलोवेरा जेल न केवल आपकी त्वचा को हाइड्रेट करता है, बल्कि खुजली को भी शांत करता है और सूजन को कम करता है। पत्तियों से सीधे ताजा जेल को अपनी भौहों पर लगाया जा सकता है, कम से कम 30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धो लें। नियमित उपयोग भविष्य में भौंहों में रूसी को रोकने में मदद कर सकता है।

निष्कर्ष में, जबकि रूसी अक्सर खोपड़ी से जुड़ी होती है, यह भौहों जैसे अन्य क्षेत्रों को भी प्रभावित कर सकती है। कारणों को समझना और नीम तेल, बादाम तेल, मेथी के बीज और एलोवेरा जेल जैसे प्राकृतिक उपचारों का उपयोग करके भौंहों की रूसी को प्रभावी ढंग से नियंत्रित किया जा सकता है, जिससे स्वस्थ और अधिक आरामदायक त्वचा सुनिश्चित हो सकती है।

रक्तदान करने से पहले रखें इन बातों का खास ख्याल

क्या आप भी Google पर ढूंढते हैं हर बीमारी का इलाज? तो हो जाए सावधान वरना भुगतना पड़ सकता है भारी परिणाम

शरीर में विटामिन बी 12 की अधिकता होने पर क्या करें? हेल्थ एक्सपर्ट ने बताया

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -