राजनीति का शौक है, तो सड़क पर आए राज्यपालः कांग्रेस

रायपुर : छतीसगढ़ के राज्यपाल बलराम टंडन के कांग्रेस विरोधी बयान पर उबल पड़े है। इस पर कांग्रेस नेता ने कहा है कि गवर्नर को राजनीति व आरोप का इतना शौक है, तो वो राजभवन छोड़कर सड़क पर आएं। कांग्रेसियों का कहना है कि वो अपने बयानों के बारे में स्पष्टीकरण दे वरना उनकी शिकायत राष्ट्रपति से की जाएगी।

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि टंडन राजभवन के लायक नहीं है। अब तक उन्होने दो बार गलत बयान दिया है। पहली बार हमने यह सोचा कि बुजुर्ग व्यक्ति हैं, जबान फिसल गई होगी। मगर दूसरी बार उन्होंने संवैधानिक पद की गरिमा के विपरीत बातें की।

इससे साफ परिलक्षित हो रहा है कि वे एक दल विशेष की लाइन पर बात कर रहे हैं। उन्होने कहा कि वो एक गवर्नर की तरह नहीं बल्कि किसी दल के आम कार्यकर्ता की तरह बात करते है। नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने कहा कि जनप्रतिनिधियों को छोड़कर संवैधानिक पदों पर बैठे हुए लोगों को राजनीतिक टिप्पणियों से बचना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट व हाई कोर्ट के जजों की नियुक्ति भी सरकार करती है। लेकिन अगर जज सरकार के लिए काम करने लगें, तो गलत बात होगी। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा कि कांग्रेस की ऐसी परंपरा नहीं रही है कि वो संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों पर टिप्पणी करें।

कांग्रेसी नेता सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि गवर्नर का पद एक संवैधानिक पद होता है, जिसकी अपनी मर्यादाएं होती है। यदि वे विपक्ष के बारे में बात करना चाहते है, तो पद त्याग कर राजभवन से बाहर निकले। खुलेआम सड़क पर आए, तब हम बताएंगे कि राजनीति क्या होती है।

छतीसगढ़ के गवर्नर बलराम जी दास टंडन पर आरोप है कि वो राजभवन में बैठकर राजनीति कर रहे है। लेकिन इस पर उनका कहना है कि ये सब विपक्ष की राजनीति है। उन्होने कहा कि विपक्ष का काम ही आरोप लगाना है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -