अगर गर्मियों में खाना आसानी से नहीं पचता तो परेशान न हों, ये लाइफस्टाइल करेगी आपकी मदद

अगर गर्मियों में खाना आसानी से नहीं पचता तो परेशान न हों, ये लाइफस्टाइल करेगी आपकी मदद
Share:

जून का महीना चल रहा है और चिपचिपी गर्मी ने सभी को परेशान कर रखा है। सबसे बड़ी चुनौती तब होती है जब तेज गर्मी के कारण खाने का डर सताने लगता है और पाचन क्रिया मुश्किल हो जाती है। आइए कुछ जीवनशैली संबंधी टिप्स जानें जो आपको चिलचिलाती गर्मी में भी आसानी से अपना खाना पचाने में मदद कर सकते हैं।

पानी को अपना साथी बनायें

अक्सर कहा जाता है कि पानी ही जीवन है। गर्मियों के मौसम में अगर आपका पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं कर रहा है, तो पानी को अपना साथी बना लें। दरअसल, गर्मी के मौसम में खूब सारा पानी पीना ज़रूरी है। यह न केवल आपको हाइड्रेटेड रखता है, बल्कि यह सुनिश्चित करता है कि आपका पाचन तंत्र भी ठीक रहे।

अपने आहार में ये खाद्य पदार्थ शामिल करें

गर्मियों के दौरान अपने आहार का ध्यान रखना पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ज़रूरी है। दही और केफिर जैसे प्रोबायोटिक युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने का प्रयास करें। ये न केवल आपको स्वस्थ रखते हैं बल्कि यह भी सुनिश्चित करते हैं कि आपका पाचन तंत्र मज़बूत बना रहे।

उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थों को प्राथमिकता दें

अपने आहार में फल, सब्ज़ियाँ और साबुत अनाज शामिल करें, ये सभी फाइबर से भरपूर होते हैं। ये खाद्य पदार्थ पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने और गर्मी के प्रभावों का मुकाबला करने में मदद करते हैं। साथ ही, याद रखें कि गर्मियों में एक बार में ज़्यादा न खाएँ। फिट रहने के लिए दिन भर में कई बार थोड़ा-थोड़ा खाना खाएं।

अदरक गर्मियों में भी काम आता है

हम अक्सर सर्दियों में अदरक का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन यह गर्मियों में भी उतना ही कारगर हो सकता है। अगर आपका पाचन तंत्र ठीक नहीं चल रहा है, तो अपने आहार में अदरक को शामिल करने से इसे बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है। अदरक पाचन रस के स्राव में सहायता करता है, जिससे पोषक तत्वों का टूटना आसान हो जाता है।

प्रतिदिन व्यायाम करें

अगर आप गर्मियों में अपने पाचन तंत्र को दुरुस्त रखना चाहते हैं, तो अपनी दिनचर्या में व्यायाम को शामिल करें। इससे आपका स्वास्थ्य बेहतर बना रहेगा। इसके अलावा, तैलीय और भारी खाद्य पदार्थों से बचें क्योंकि ये पाचन को धीमा कर देते हैं। इस देरी से एसिड रिफ्लक्स और अपच जैसी समस्याएं हो सकती हैं। कभी-कभी, आपको उल्टी जैसी अनुभूति भी हो सकती है।

हुंडई क्रेटा ईवी: क्रेटा का इलेक्ट्रिक वर्जन कब लॉन्च होगा? कंपनी ने तोड़ी चुप्पी

नई Maruti Swift साबित हुई 'हुकुम का इक्का', पंच को पछाड़कर बनी नंबर 1

आईएमटी गियरबॉक्स क्या है, यह मैनुअल और ऑटोमैटिक से कैसे अलग है?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -