क्या शुगर के मरीज पूरी तरह से चीनी छोड़ देंगे तो कंट्रोल में रहेगा ब्लड शुगर लेवल?

क्या शुगर के मरीज पूरी तरह से चीनी छोड़ देंगे तो कंट्रोल में रहेगा ब्लड शुगर लेवल?
Share:

भारत में मधुमेह, एक चयापचय विकार है, जिसमें रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। देश भर में 100 मिलियन से अधिक मधुमेह रोगियों के साथ, मामलों में वृद्धि चिंताजनक है। आम धारणा के विपरीत, मधुमेह केवल अत्यधिक चीनी के सेवन के कारण नहीं होता है, बल्कि यह गलत आहार विकल्पों और जीवनशैली की आदतों से भी जुड़ा हुआ है।

विशेषज्ञ मधुमेह को केवल चीनी के सेवन से जोड़ने वाले मिथक को खारिज करते हैं। मीठा खाने और मधुमेह होने के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है। बल्कि, इसका मुख्य कारण शरीर द्वारा इंसुलिन का उत्पादन या उचित रूप से उपयोग करने में असमर्थता है, जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार हार्मोन है।

जब अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने में विफल हो जाता है या शरीर इसके प्रभावों के प्रति प्रतिरोधी हो जाता है, तो रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है, जिससे मधुमेह का मार्ग प्रशस्त होता है। गतिहीन जीवनशैली और अस्वास्थ्यकर खाने की आदतें जैसे कारक जोखिम को बढ़ाते हैं, खासकर शहरी निवासियों के बीच।

इसके अलावा, आनुवंशिकी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। मधुमेह से पीड़ित माता-पिता के बच्चों में टाइप 1 मधुमेह नामक बीमारी होने की संभावना अधिक होती है, चाहे उनका खान-पान कुछ भी हो। इसलिए, मधुमेह के लिए केवल चीनी को दोष देना एक जटिल स्वास्थ्य समस्या को और भी सरल बना देता है।

मधुमेह रोगियों के लिए, चीनी से पूरी तरह परहेज़ करना समाधान नहीं है। इसके बजाय, संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह दी जाती है। प्राकृतिक मिठास वाले डेसर्ट का सेवन करना या कीटो-फ्रेंडली ट्रीट का चुनाव करना जोखिम को कम कर सकता है। ऐसी मिठाइयाँ रक्तप्रवाह में चीनी को धीरे-धीरे छोड़ती हैं, जो मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद है।

संयम ही सबसे महत्वपूर्ण है। मधुमेह रोगी कभी-कभार मीठा खा सकते हैं, लेकिन उन्हें नियमित व्यायाम और दवा के साथ इसका सेवन करना चाहिए। त्यौहारों के अवसर अक्सर लोगों को मीठा खाने के लिए प्रेरित करते हैं, और जबकि कभी-कभार मीठा खाना स्वीकार्य है, लेकिन शारीरिक गतिविधि और दवा के सेवन से इसे संतुलित करना महत्वपूर्ण है।

संक्षेप में, प्रभावी प्रबंधन के लिए चीनी की खपत और मधुमेह के बीच सूक्ष्म संबंध को समझना महत्वपूर्ण है। मिथकों को दूर करके और संयम अपनाकर, व्यक्ति अपनी स्थिति को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करते हुए एक संतुष्ट जीवन जी सकते हैं।

गर्मियों में नहीं पच रहा खाना तो डाइट में करें ये बदलाव, तुरंत मिलेगी राहत

गर्मी के मौसम में चिकन खाएं या नहीं? जानिए एक्सपर्ट्स की राय

इको-फ्रेंडली डाइट से मौत खतरा होगा कम! रिसर्च में हुआ खुलासा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -