JNU विवाद: अगर अफजल शहीद तो हनुमनथप्पा को क्या कहेंगे?

Feb 16 2016 10:40 AM
JNU विवाद: अगर अफजल शहीद तो हनुमनथप्पा को क्या कहेंगे?

नई दिल्ली : JNU में देश विरोधी नारेबाजी के मामले की आग धीरे-धीरे और अधिक भड़कती नही जा रही है. ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले रेसलर योगेश्वर दत्त ने भी अफजल को शहीद कहे जाने पर आवाज उठाई है. अपने फेसबुक पोस्ट में उन्होंने पूछा कि ''अफजल को शहीद कहेंगे तो हनुमनथप्पा को क्या कहेंगे.'' उनका यह पोस्ट वायरल हो गया है. इसे अभी तक 58,329 ने लाइक किया है और 8,261 यूजर्स ने शेयर किया है.  

संसद हमले के शहीदों की फैमिली ने सोमवार को ऑल इंडिया एंटी-टेरेरिज्म फ्रंट के प्रेसिडेंट एमएस बिट्टा की अगुआई में राजनाथ सिंह से मुलाकात की. शहीदों के परिवारवालों ने JNU में देश विरोधी नारेबाजी और अफजल का सपोर्ट करने वालों को गिरफ्तार करने की मांग की. 

बिट्टा ने कहा कि अगर सरकार 15-20 दिन में कार्रवाई नहीं करती है तो तमाम शहीदों के परिवारवाले हजारों की संख्या में JNU कैम्पस में विरोध प्रदर्शन करेंगे. उन्होंने कहा कि ‘'जिन्होंने भी अफजल गुरु का मुद्दा उठाया है उन्होंने 2001 के संसद हमले के शहीदों का मजाक उड़ाया है. एक तरफ हमारे जवान कुर्बानी दे रहे हैं, और दूसरी तरफ आतंकी अफजल के समर्थन में नारे लग रहे हैं, ऐसे में सरकार को जल्द से जल्द दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए.

बिट्टा ने सवाल किया कि क्या हमारी सरकार इतनी कमजोर हो गई है कि वह 50 स्टूडेंट में से पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करने वालों का पता नहीं लगा सकती है?'’ उन्होंने कहा कि जिन्हें राजनीति करनी है वह सड़क पर आकर करें, JNU को राजनीतिक अखाड़ा न बनाएं और शहीदों की कुर्बानी का मजाक न उड़ाएं।