कोरोना की दवा की मात्रा को लेकर ICMR ने WHO को लिखा पत्र

May 29 2020 04:06 PM
कोरोना की दवा की मात्रा को लेकर ICMR ने WHO को लिखा पत्र

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा COVID-19 रोगियों के उपचार में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) के उपयोग को रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की सलाह के बाद अब भारत की नोडल सरकारी एजेंसी ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) इस मामले को आगे देख रही है. ICMR  ने डब्ल्यूएचओ को भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय परीक्षणों के बीच खुराक के मानकों में अंतर का हवाला देते हुए एक पत्र लिखा है. हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ)  दवा,  जो COVID-19 मरीजों के इलाज में मदद के लिए दुनिया भर के कई देशों द्वारा इस्तेमाल की जा रही है.

एलेक्स ट्रेबेक काफी समय बाद फीकी नीली शर्ट में आए नजर

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि वर्तमान में, आईसीयू में गंभीर कोरोनावायरस रोगियों के इलाज के लिए भारत सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार, एचसीक्यू डोजेज निम्न प्रकार से दी जाती हैं- 1 दिन में सुबह और एक रात में 400 मिलीग्राम एचसीक्यू की एक भारी खुराक, इसके बाद 200 मिलीग्राम अगले चार दिनों के लिए, सुबह में एचसीक्यू एक और रात में एक. कुल खुराक 5 दिनों में एक मरीज को दी जाती है, जिसकी कुल मात्रा 2400 मिलीग्राम होती है. साथ ही, स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने ICMR और स्वास्थ्य मंत्रालय के WHO के आकलन से असहमत होने के पीछे के संदर्भ को समझाया कि भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिए गए खुराक(डोज़) के स्तर में व्यापक अंतर है. अधिकारी ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय रूप से चल रहे ट्रायल में COVID-19 मरीजों को इस प्रकार से डोज दी जा रही है-  800 mg x 2 लोडिंग खुराक 6 घंटे के अलावा 400 mg x 2 खुराक प्रति दिन 10 दिनों के लिए. 11 दिनों में एक मरीज को दी जाने वाली कुल खुराक  9600 मिलीग्राम है, जो भारत में मरीजों को दी रहे खुराक से चार गुना अधिक है.

इस शख्स को विप्रो के ​मैनेजिंग डायरेक्टर के पद पर किया गया नियुक्त

अपने बयान में अधिकारी ने कहा कि यह इंगित करता है कि हमारे उपचार प्रोटोकॉल में एचसीक्यू की प्रभावकारिता अच्छी है और मरीजों को कम मात्रा में इसकी डोज़ देने के साथ वह जल्दी ठीक हो रहे हैं. भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने इसको लेकर WHO को एक पत्र लिखा है. ईमेल के माध्यम सेन एक पत्र में डॉ. शीला गोडबोले, डब्ल्यूएचओ-इंडिया सॉलिडेरिटी ट्रायल के राष्ट्रीय समन्वयक और महामारी विज्ञान विभाग के प्रमुख, आईसीएमआर-नेशनल एड्स रिसर्च इंस्टीट्यूट ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन को लिखा है.

क्या अब येदियुरप्पा के विधायक हो चुके है बा​गी ?

बिहार में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ, तेजस्वी यादव के घर जमा हुए सैकड़ों राजद कार्यकर्ता

कैलिफ़ोर्निया काउंटी खोलने का प्रस्ताव हुआ रद्द