मैंने अब तक कोई सांप्रदायिकता नहीं झेली: जावेद अख्तर

इंदौर: जहा एक तरफ देश में बढ़ती असहिष्णुता को लेकर हर दिन बहस छिड़ रही है या फिर नए नए विवाद खड़े हो रहे है इसके बीच गीतकार जावेद अख्तर ने शनिवार को कहा कि उन्होंने अपनी निजी ज़िंदगी कभी भी सांप्रदायिकता का सामना नहीं किया।

यह बात उन्होंने गुजराती स्कूल के प्रांगण में इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल के दौरान कही। इस समारोह के दौरान जावेद अख्तर से एक श्रोता के सवाल पर जवाब देते हुए कहा की मैंने अपनी पर्सनल लाइफ में कभी भी सांप्रदायिकता नहीं झेली है। अपने जीवन के बारे में बताते हुए जावेद अख्तर ने कहा की जब में मुंबई गया उस समय मेरी उम्र 20 वर्ष थी।

जिन लोगों ने मुझे मुंबई में काम दिया, वे न तो मेरे रिश्तेदार थे, न ही मेरे वर्ग, प्रदेश और जुबान के थे। इन लोगों ने मुझे सिर्फ इसलिए मौका दिया, क्योंकि उन्हें मेरा काम पसंद आया।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -