हाइड्रोजन ईंधन करेगा डीजल-पेट्रोल की कमी समाप्त, समुद्री पानी से होगा निर्माण

Jan 17 2020 01:59 PM
हाइड्रोजन ईंधन करेगा डीजल-पेट्रोल की कमी समाप्त, समुद्री पानी से होगा निर्माण

एक ऐसी तकनीक को अपनी मेहनत से आइआइटी मद्रास के शोधकर्ताओं ने ईजाद किया है. ​जिसकी मदद से आसानी से पानी से हाइड्रोजन ईंधन का निर्माण किया जा सकता है.इस विधि की मदद से भविष्य में स्वच्छ ईंधन बनाने का मार्ग प्रशस्त हो सकता है. इसके बारे में जर्नल एसीएस स्टेनेबल केमिस्ट्री एंड इंजीनिर्यंरग में विस्तार से बताया गया है.

आज़म खान के बेटे अब्दुल्ला आज़म को सुप्रीम कोर्ट से झटका, विधायकी रद्द करने का आदेश बरक़रार

इस महत्वपूर्ण खोज के बाद शोधकर्ताओं का दावा है कि अब हमें ईंधन को स्टोर करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. नई तकनीक की मदद से मांग के मुताबिक हाइड्रोजन का उत्पादन किया जा सकता है. इससे भंडारण करने की चुनौतियां भी कम हो जाएंगी, क्योंकि जरासी असावधानी पर ईंधन के टैंक में विस्फोट होने का खतरा बना रहता है.उन्होंने कहा कि भविष्य में हाइड्रोजन ऊर्जा का एक सबसे अच्छा स्नोत बन सकता है. इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि जब हाइड्रोजन का दहन किया जाता है तो जीवाश्म ईंधन की वनिस्पत इसमें कार्बन डाइऑक्साइड का उत्पादन नहीं होता है, जिससे यह ऊर्जा का ‘स्वच्छ’ स्नोत बन जाता है यानी इसका ईंधन पर्यावरण के अनुकूल होगा और ग्लोबल वार्मिंग का कारक नहीं बनेगा.

उन्नाव केस: क्षतिपूर्ति के लिए कुलदीप सिंह सेंगर को 60 दिन में जमा करने होंगे इतने लाख

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि शोधकर्ताओं का मानना है कि सड़कों पर डीजल-पेट्रोल से चलने वाले वाहनों की बढ़ती संख्या और साल-दर-साल बढ़ते तापमान को देखते हुए भविष्य में हाइड्रोजन ईंधन का ही है. आज हमारे आसपास जितनी भी मशीनें चलती हैं, ज्यादातर कार्बन का उत्सर्जन करती हैं. लेकिन, हाइड्रोजन का उपयोग बढ़ने से उत्सर्जन का काफी हद तक कम किया जा सकता है. विश्व के कई देशों में हाइड्रोजन से चलने वाली बसों का ट्रायल भी शुरू हो चुका है. वैश्विक स्तर पर वायु प्रदूषण के बढ़े हुए स्तर को देखते हुए शोधकर्ता समुद्री पानी से हाइड्रोजन पावर बनाकर कारों और बाइक को चलाने का लक्ष्य बना रहे हैं.

अजित जोगी और उनके पुत्र पर दर्ज हुआ नौकर को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला

संजय राउत का दावा, कहा- सियासी लाभ के लिए कभी इस्तेमाल नहीं किया शिवाजी या इंदिरा का नाम

केंद्रीय विद्यालयों में पढ़ाया जाए संविधान, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को भेजा नोटिस