ये है पहला ताजमहल, जानिए इसकी खासियत

आगरा के ताजमहल को कौन नहीं जानता हैं. दुनिया भर में फेमस है ये ताजमहल जिसे देखने के लिए लोग भी दुनियाभर से आते हैं. हमारे देश की शान और दुनिया के अजूबों में शामिल ताजमहल को प्यार की निशानी के तौर पर देखा जाता हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आगरे के ताजमहल के अलावा एक ऐसी इमारत है जिसे दुनिया का पहला ताजमहल कहा जाता हैं. नहीं जानते तो हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे ही महल के बारे में जिसके बारे में आपको भी नहीं पता होगा. 

जानकारी दे दें कि दिल्ली की यह ईमारत एक मकबरा है और इसमें 150 से ज्यादा लोग आज भी दफ़न हैं. हम बात कर रहे हैं "हुमांयू के मकबरे" की. इस मकबरे को दुनिया का सबसे पहला ताजमहज कहा जाता है, क्योंकि वर्तमान का आगरा का ताजमहल भी इसी की कलात्मकता को लेकर बनाया गया था. इस मकबरे का नाम “हुमांयू का मकबरा” है. यह शहंशाह हुमांयू की बेगम “हमीदा बानो बेगम” के कहने पर तैयार किया था. ये भी उतना ही प्रसिद्द है जितना ताजमहल फेमस है.

इसके अलावा बता दें कि इस मकबरे में मुगल शासकों के परिजनों की कब्रें भी बनी हुई है, जो की 150 से भी ज्यादा की संख्या में हैं. इसमें हुमांयू का मकबरा भी शामिल है और ये सभी कब्रे हुमायूं के मकबरे के सामने स्थित पार्क में बनी हैं. हजारों लोग यहां रोज घूमने के लिए आते हैं. अगर आप भी नहीं गए हैं तो एक बार जरूर जा कर देखें जिसकी खूबसूरती ही आपको पसंद आ अजायगी. 

यहां स्तन के आकार के होते है फूल, ऐसे ही अजीब हैं कुछ अन्य पौधे

सिर्फ सर्दी में ही खाने को मिलेगी ओस से बनी ये स्पेशल मिठाई

भारत का सबसे डरावना गाँव है धनुष्कोटि, फिर भी आते हैं लाखों सैलानी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -