दिल्ली-मुंबई पर क्या असर करेगी कोरोना की तीसरी लहर ? महामारी वैज्ञानिक डॉ. मुलियाल ने दिया जवाब

नई दिल्ली: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देश की कुल आबादी के महज 5 प्रतिशत लोगों को फिर से संक्रमित किया है जो वायरस की पहली लहर में संक्रमित हुए थे और रिकवर हो गए थे। ये खुलासा टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) के तहत कोविड -19 कार्यकारी ग्रुप के प्रमुख डॉ. एन के अरोड़ा ने हाल ही में एक चैनल को दिए अपने एक इंटरव्यू में किया था। 

विशेषज्ञों का कहना है कि वैश्विक तौर पर देखें तो फिर से कोरोना वायरस से संक्रमित हुई आबादी की कुल तादाद करीब एक फीसदी है। हालांकि, उनका ये भी कहना है कि दिल्ली और मुंबई जैसे कई शहरों में लोगों में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान संक्रमण का प्रसार इतना अधिक रहा है कि तीसरी लहर में फिर से संक्रमित होने की संभावना नहीं है।

जाने माने महामारी वैज्ञानिक डॉ. जयप्रकाश मुलियाल ने जानकारी देते हुए बताया है कि, "देश में पाए जाने वाले वायरस स्ट्रेन ने इतने लोगों को संक्रमित कर दिया है कि लोगों में जिस तरह से प्रतिरक्षा आई है, उससे तीसरी लहर असंभव है।" उन्होंने आगे कहा कि, "जब तक कोई बड़ा बदलाव वायरस में नहीं होता है या कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन नहीं सामने आता है तब तक कोरोना की तीसरी लहर आने की कोई संभावना नहीं है।"

दो दिनों में 40 फीसद चमके अडानी पॉवर के शेयर, सामने आई ये वजह

'कोरोना वैक्सीन लगवाएं और अधिक ब्याज पाएं', टीकाकरण को बढ़ावा देने के लिए बैंक दे रहे ऑफर

महामारी के बीच राष्ट्रीय सर्वश्रेष्ठ मित्र दिवस को इस तरह करें सेलिब्रेट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -