WHO ने चेताया, कहा- वैक्सीन के बिना कैसे हल होगा वैश्विक कोरोना संकट?

May 05 2021 10:58 AM
WHO ने चेताया, कहा- वैक्सीन के बिना कैसे हल होगा वैश्विक कोरोना संकट?

कोविड महामारी विश्व के कई देशों में प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है। हालांकि कुछ देशों ने सख्त उपायों और टीकाकरण के सहारे इस संकट को बहुत हद तक काबू करने में कई तरह के प्रयास किए जा रहे है। जैसा कि WHO का भी बोलना है कि वायरस के खतरे को खत्म करने के लिए सतर्क रहने की आवश्यक है। जिसके साथ ही वैक्सीन लगाने के काम में भी तेजी आने वाली है। हालांकि तमाम देश ऐसे भी हैं या तो वहां टीके पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं हैं या फिर नागरिक वैक्सीन लगवाने को लेकर अधिक उत्सुक नहीं हैं। अगर इस संदर्भ में चीन का उल्लेख करें तो उसने वैक्सीन तैयार होने से पहले ही कई तरह के सख्त कदम उठाए। इसका नतीजा यह हुआ कि चीन में कोरोना वायरस को लगभग नियंत्रण में कर लिया गया है। इसके साथ ही वैक्सीन उत्पादन के उपरांत भी चीन ने ढिलाई नहीं बरती। चीन ने न केवल अपने देश के नागरिकों को टीके लगाए, बल्कि अन्य देशों को भी मदद पहुंचाई।

कहा जा रहा है कि चीन में अब तक लोगों को करीब 28 करोड़ खुराकें दी जा चुकी है। जिसके अतिरिक्त चीनी टीके विभिन्न देशों में वायरस के विरुद्ध लड़ाई में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। खासकर ऐसे देश जिनके पास संसाधनों की कमी है, उनके लिए चीन द्वारा तैयार साइनोवैक व साइनोफार्म वैक्सीन किसी संजीवनी से कम नहीं कही जा सकती। ऐसे समय में जब भारत आदि देश कोविड महामारी की नई लहर से परेशान हैं, वैश्विक सहयोग की आवश्यकता और बढ़ गई है, क्योंकि वायरस न किसी देश की सीमा को मानता है और न जाति या धर्म को। इस संकट की घड़ी में सक्षम देशों को आगे आने की आवश्यकता है।

हालांकि हमने देखा है कि अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया व कनाडा आदि पश्चिमी देश वैक्सीन की खूब जमाखोरी करने में लगे हुए है। लेकिन जरूरतमंद देशों को मदद देने के लिए कुछ भी नहीं कर रहे हैं। अगर ये बड़े व विकसित देश महामारी से जूझ रहे देशों को सहायता के लिए हाथ आगे बढ़ाते है तो स्थिति बदल सकती है। हालांकि इंडिया में महामारी के बिगड़ते हालात के मध्य इन देशों ने सहायता देनी शुरू की है, परंतु वैक्सीन मुहैया कराने के मामले वे पीछे ही है। अमेरिका का उदाहरण दें तो व्यापक अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बाद वह वैक्सीन बनाने के कच्चे माल से प्रतिबंध हटाने को तैयार हो गया है। लेकिन उसके पास करोड़ों खुराकें अतिरिक्त अब तक  जमा की जा चुकी हैं, जिन्हें भारत या अन्य देशों को देने के लिए अमेरिका नहीं मान रहा है। इस बात में कोई भी शक नहीं है कि महामारी पर पूरी तरह से नियंत्रण करने में टीकाकरण की भूमिका को कम नहीं आंका जा सकता। हालांकि यह अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के बिना संभव भी नहीं लगता है, क्योंकि किसी एक देश में भी वायरस अगर जि़ंदा रहा तो पूरी दुनिया चैन से नहीं सो पाएगी। ऐसे में अच्छा यही होगा कि विकसित देश सहायता के लिए आगे आएं।

दीपिका पादुकोण पर छाया कोरोना का प्रकोप, माता-पिता और बहन के बाद अभिनेत्री भी हुईं संक्रमित

कोरोना: इमरजेंसी हेल्थ सेवा के लिए 50,000 करोड़ रुपये देगा RBI, शक्तिकांत दास ने किया ऐलान

सीएम बिप्लब कुमार देब का बड़ा बयान, बोले- नंदीग्राम से हारीं ममता बनर्जी को नहीं बनना चाहिए मुख्यमंत्री...