इनकम टैक्स का भुगतान करना अब और भी आसान, बैंकों के चक्कर लगाने से मिलेगी निजात

 इनकम टैक्स का भुगतान करना देश के हर एक नागरिक की जिम्मेदारी है, क्योंकि इससे देश का विकास होता है। अक्सर लोग टैक्स भरने के लिए बैंकों के चक्कर लगाते हैं, परन्तु इससे उनका समय बहुत खराब हो जाता है। इस परेशानी से बचने के लिए लोग नेटबैंकिंग का सहारा लेते हैं। इससे वह घर बैठे टैक्स की पेमेंट कर पाएंगे। इसके अलावा भारत सरकार जल्द ही टैक्स के भुगतान के लिए क्रेडिट कार्ड, यूपीआई और मोबाइल वॉलेट से ई-पेमेंट की सुविधा दे सकती है। इस जानकारी की पुष्टि राजस्व सचिव अजय भूषण ने की है। राजस्व अजय भूषण ने कहा है कि भारत के लोग जल्द ही टैक्स का भुगतान यूपीआई के जरिए कर पाएंगे। इसके साथ ही सरकार इस प्रोसेस की जानकारी जल्द ही शेयर करेगी। कई विशेषज्ञों का मानना है कि लोग कम राशि के टैक्स का भुगतान मोबाइल वॉलेट से कर सकेंगे।

नेटबैंकिंग से होता है टैक्स का भुगतान - अभी फिलहाल लोगों को टैक्स की पेमेंट के लिए नेटबैंकिंग और डेबिट कार्ड का ऑप्शन मिलता है। दूसरी तरफ लोगों को बैंक जाकर कर का भुगतान करना पड़ता है। आपको बता दें कि केनरा बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, पीएनबी और एसबीआई बैंकों की नेटबैंकिंग के द्वारा टैक्स का भुगतान होता है। आइये जानते हैं नेटबैंकिंग से कैसे आप टैक्स का भुगतान कर सकते है| ऑनलाइन टैक्स का भुगतान करने के लिए आपको सबसे पहले  इस लिंक https://www.tin-nsdl.com पर जाना होगा। पेज में जाने के बाद आपको पैन एप्लिकेशन समेत टैक्स पेमेंट का विकल्प दिखाई देगा। यहां आपको पे टैक्स ऑनलाइन पर क्लिक करना होगा। इतना करने के बाद आपको Continue पर क्लिक करना पड़ेगा।

आपको यहां इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का टेक्स इंर्फोमेशन नेटवर्क दिखाई देगा, जिसमें अलग-अलग प्रकार के चालान दिखेंगे। यहां आपको  चालान नंबर आईटीएनएस 280 (पेमेंट ऑफ इनकम टैक्स एंड कॉरपोरेशन टैक्स) को चुनना होगा। अब आप चालान 280 में एसेस्मेंट वर्ष चुनकर आगे बढ़ें। जैसे ही आप आगे बढ़ेंगे तो आपको तीन ऑप्शन दिखाई देंगे वित्तीय वर्ष के अंदर ही ऐडवांस टैक्स भरने के लिए सेक्शन 100 को चुनें। वित्तिय वर्ष पूरा होने के बाद कर का भुगतान करना है, तो Self-Assessment of Taxes को चुनें। अगर नोटिस मिला है, तो सेक्शन 400 के तहत टैक्स ऑन रेगुलर असेसमेंट पर क्लिक करें। इन ऑप्शन्स में से किसी एक को चुनने के बाद आपको पैन नंबर, एड्रेस, फोन नंबर, बैंक का नाम, अकाउंट नंबर, ई-मेल आईडी और कैप्चा कोड भरना होगा। सावधानी के साथ आपको सारी जानकारी एंटर करनी होगी, इतना करने के बाद आपको टैक्स की पेमेंट करने के लिए नेटबैकिंग के विकल्प को चुनना होगा। नेटबैंकिंग का विकल्प पर क्लिक करने के बाद आपको टैक्स की राशि चुननी होगी। टैक्स जमा होने के बाद आपको चालान मिल जाएगा। इस चालान में टैक्स से जुड़ी कई जानकारी मौजूद होंगी। यह चालान आपके टैक्स के भुगतान के सबूत के तौर पर काम करेगा। 

 

अमेरिका की सख्त निगरानी ने फार्मा उद्योग को किया परेशान, दवाईयों पर पड़ रहा बुरा असर

1 जनवरी से बदल जाएगा सोने की खरीद से जुड़ा ये बड़ा नियम, मोदी सरकार ने दिखाई हरी झंडी

अब यह बैंक होगा बंद, जल्द कर ले अकाउंट खाली

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -