दाग धब्बों को निकालने का नायाब तरीका


आज के प्रदुषण से भरे वातावरण में चेहरे पर पिंपल्स का निकल आना आम बात है. इसे दूर करने के लिए आप ना जाने कितने सारे प्रोडक्ट इस्तेमाल कर लेते होंगे. कुछ से फायदा होता हो और कुछ से नहीं होता. ऐसे में आप डर्माब्रेजन या फेस पीलिंग तकनीक का इस्तेमाल कर सकते है.

चेहरे पर उगे कील-मुंहासे, चेचक, चोट, जख्म या जलन आदि के दागधब्बों और सुंदरता बिगाड़ने वाले तिल और सफेद दाग को भी कॉस्मेटिक सर्जरी से हटाया जा सकता है. इसमें त्वचा की ऊपरी परत को हल्की सर्जरी से हटा दिया जाता है. इस सर्जरी में धातु और हीरे के ब्रश का इस्तेमाल किया जाता है. यह सर्जरी अक्सर बेहोश करके की जाती है। सर्जरी के बाद त्वचा को धूप से छह महीने तक बचाना पड़ता है.

आजकल बेहतर नतीजों के लिए स्वचालित डर्माब्रेडर मोटर का इस्तेमाल किया जाता है. इससे चेहरे की त्वचा की झुर्रियों व रेखाओं को दूर किया जा सकता है. चेहरे के दागधब्बों या तिल को जब रसायन से हटाया जाता है तो इसे केमिकल फेस पीलिंग कहते हैं. जब इसे घोल कर हटाया जाता है तो इसे डर्माब्रेजन कहते हैं. जब इसे लेजर से हटाया जाता है तो इसे लेजर पीलिंग कहते हैं.

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -