इन योगासनो से कहे डायबिटीज को अलविदा

मधुमेह से पीड़ित लोगो के लिए एक अच्छी खबर है. यदि आप डॉक्टरों के चक्कर लगा के और गोली दवाइयों में पैसा फूक फूक के परेशान हो गए है तो आप डायबिटीज से छुटकारा पाने के लिए योग का सहारा ले सकते है. डायबिटीज की बिमारी किसी भी शरीर में घर तब बनाना शुरू करती है जब ब्लड सेल्स शरीर में पैदा होने वाले इन्सुलिन से रियेक्ट करना बंद कर देते है. लेकिन यदि आप नियमित रूप से योगासन करेंगे तो यह इन्सुलिन से रियेक्ट करना शुरू कर देगा और धीरे धीरे आपका ब्लड ग्लूकोज कम होने लगेगा.

इन योगासनो से आप ना सिर्फ डायबिटीज को कंट्रोल कर पाएंगे बल्कि इसमें अहम भूमिका निभाने वाली समस्यां जैसे वजन वृद्धि और हाई ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल में ला पाएंगे. तो देर किस बात की? यदि आप डायबिटीज के मरीज है और इस बिमारी से छुटकारा पाना चाहते है तो नीचे दिए गए योगासनो को आज से ही करना शुरू कर दे.

सेतुबंधासन:

यह आसन ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में लाकर डायबिटीज के मरीजों को फायदा पहुचता है. इस आसन को करने के लिए जमीन पर पीठ के बल सीधा लेट जाए. अब अपनी सांस धीरे धीरे छोड़ते हुए पैरो के बल ऊपर उठने का प्रयास करे. इस दौरान सहारे के लिए आप अपने हाथो का इस्तेमाल भी कर सकते है. ध्यान रहे कि आपको अपने शरीर के निचले हिस्से को इस तरह उठाना है कि जमीन से सट कर आपकी गर्दन और सर ही रह जाए. इस आसन को तभी करे जब आप इसे करने में कम्फ़र्टेबल हो, अन्यथा आप नीचे दिए गए दूसरे आसनो को आजमा सकते है.

बलासन:

यह आसन करने से आपके शरीर की स्ट्रेचिंग हो जाती है जिससे रक्त संचार बढ़ता है और तनाव भी कम होता है. यह दोनों चीजे ही आपको डायबिटीज की लड़ाई लड़ने में सहायक सिद्ध होगी. इस आसन को करने के लिए जमीन पर घुटनो के बल बैठ जाए. ध्यान रहे की आपकी दोनों जांघो के बीच कुछ दूरी हो. अब धीरे से सांस छोड़ते हुए कमर को नीचे की ओर झुकाए. अब अपने पेट को जांघो से सटा हुआ रहने दे और अपनी पीठ को आगे की ओर बढ़ाए. अब बाहों में खीचाव पैदा करने के लिए पीठ को आगे की ओर ले. आप चाहे तो हाथों को जमीन से सटा ले. हो सकता है आप पहली बार में इसे ठीक से ना कर पाए लेकिन धीरे धीरे प्रैक्टिस करने से आप इसमें माहिर हो जाएंगे.

हलासन:

यह आसन करने से शरीर का शुगर लेवल कम होता है. इस आसन को करने के लिए जमीन पर पीठ के बल सीधा लेट जाए. अब आप अपने हाथो को जमीन पर टीका कर धीरे धीरे पैरो को ऊपर उठाए. आपको इन पैरो को अपने सर के पीछे की ओर ले जा कर जमीन से टच करना है. पैरो को ऊपर ले जाते वक़्त आपको सांस छोड़ना है एवं पैरो को नीचे लाते वक़्त सांस लेना है. यदि आप लिवर या डायरिया के मरीज है तो इस आसन को कतई ना करे.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -