peer to peer Bitcoin भारत में कैसे ख़रीदें ?

peer to peer Bitcoin भारत में कैसे ख़रीदें ?

आज इंटरनेट के इस युग में सभी चीज़ें काफ़ी ही तेज़ी से बदलती एवं विकसित होती जा रही है जिसके कारण हर कोई तकनीक यानी टेक्नॉलजी का पूरी तरह से आदि हो चुका है. इंसान की लगभग सभी ज़रूरत की चीज़ें इंटरनेट पर मौजूद है जिन्हें कुछ ही क्लिक्स में हासिल या जाना जा सकता है. इंटरनेट के द्वारा व्यापार का दायरा भी सीमित से अब असीमित हो चुका है. पहले के समय में एक दुकान या व्यापार मात्र गली या शहर तक ही सीमित थे किंतु इंटरनेट के माध्यम से यह अब देश विदेश में भी सम्भव है. ऐसे में रोज़ बदलती तकनीक भरी इस दुनिया में आज हम बात करेंगे वर्चूअल करेन्सी या डिजिटल करेन्सी के बारे में जिसे इंटरनेट की मुद्रा भी कहना ग़लत नहीं है.

2017 के बाद से Bitcoin के नाम से शायद ही कोई अपरिचित रहा हो. इस डिजिटल करेन्सी के रोज़ बदलते मूल्य और बढ़ती डिमांड के कारण यह लोगों में उत्सुकता और काफ़ी चर्चा का विषय बना हुआ है. जैसे जैसे लोग इसके बारे में जान रहे है हर किसी की दिलचस्पी इसमें निवेश की बढ़ती दिख रही है.

यदि आप Bitcoin के बारे में अधिक नहीं जानते या इंटरनेट पर कुछ भारत में बिटकोईन खरींदे ऐसा तलाश रहे है की जिस से आपको भारत में bitcoin ख़रीदने की जानकारी हासिल हो तो आइए हम आपको विस्तार से इसके बारे में सब समझाते है.

Bitcoin क्या है ?

दरअसल, Bitcoin एक डिजिटल करेन्सी है जिसे छुआ या देखा नहीं जा सकता लेकिन इंटरनेट पर इसका इस्तेमाल लेंन देंन के लिए किया जा सकता है. आप इसे जेब में काग़ज़ के टुकड़े के समान नहीं रख सकते किंतु इसके लिए आपको डिजिटल वालेट्स का रखना आवश्यक होता है जिसमें यह अंको के रूप में संचित किया जाता है.

Bitcoin का मूल्य हर दिन, मिनट और सेकंड घटता बढ़ता रहता है. यह पूरी तरह से सप्लाई और डिमांड पर निर्भर है. इसके मूल्य की भविष्यवाणी करना पूरी तरह ही जोखिम से भरा है क्योंकि जैसे जैसे इस डिजिटल मुद्रा का चलन बढ़ रहा है उसी के साथ काफ़ी तेज़ी से ही इसका मूल्य भी ऊपर नीचे होता दिखाई देने लगा है.

भारत में bitcoin कैसे ख़रीदा जा सकता है ?

भारत समेत कई देशों में फ़िलहाल Bitcoin या डिजिटल करेन्सी पर कोई नियम लागू नहीं है जिसके कारण सरकार और कई समितियाँ इसे लागू या पूरी तरह रोक लगाने हेतू नज़रें बनाए हुए है. बैंक के द्वारा इसे नहीं ख़रीदा जा सकता जिसके कारण लोग आपसी रजामंदी से इसमें लेन देन कर सकते है जिसके लिए सरकार किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Bitcoin ख़रीदने के लिए फ़िलहाल peer to peer यानी एक दूसरे के साथ या फिर पेपाल से बिटकोईन माध्यम काफ़ी प्रचलित हो रहा है. डिजिटल करेन्सी के लेन देन को सुरक्षित बनाने के लिए कई बड़ी कंपनिया भी कार्यरत है जिसमें paxful काफ़ी प्रचलित है.

क्या डिजिटल करेन्सी सुरक्षित है ?

Bitcoin या डिजिटल करेन्सी पर किसी भी सरकार या व्यक्ति का नियंत्रण नहीं है. इस तकनीक " ब्लाकचैन " में सभी ट्रान्सजेक्सन को रिकॉर्ड किया जाता है जिसे बदला या छेड़ा नहीं जा सकता. Bitcoin ट्रान्सजेक्सन फ़ीस बेहद ही कम जिसके कारण कम समय एवं कम मूल्य में ही इसका लेन देन सम्भव है.

हालाँकि Bitcoin या डिजिटल करेन्सी की हैकिंग की कई घटनाए पिछले कुछ समय में सामने आयी है ऐसे में इसे डिजिटल वालेट में सावधानी पूर्वक रखना बेहद ही अवयशक है.  

आज फिर से Samsung Galaxy Fold प्री-बुकिंग के लिए होगा उपलब्ध, जाने पूरी डिटेल्स

PUBG Mobile : नया अपडेट डाउनलोड के लिए उपलब्ध, जानिए क्या होगा ख़ास

Reliance jio vs BSNL: जानिए किस कंपनी का प्लान होगा आपके लिए किफायती