यूपी रामपुर के सीधे-साधे रजा मुराद आखिर कैसे बन गए फिल्मों के लोकप्रिय खलनायक

यूपी रामपुर के सीधे-साधे रजा मुराद आखिर कैसे बन गए फिल्मों के लोकप्रिय खलनायक

बॉलीवुड के ऑलटाइम पसंदीदा खलनायक रजा मुराद के बारे में ये बात कोई शायद ही जानता हो कि वह उत्तर प्रदेश के एक छोटे से स्थान रामपुर के जन्में हैं। रजा अपने बेहतरीन अभिनय के दम पर बॉलीवुड में अपना सिक्का जमा चुका हैं। 90 के दशक में अपनी अलग ही खलनायक के रूप में पहचान बना चुके रजा मुराद का जन्म 23 नवम्बर 1950 को रामपुर में हुआ। रजा के पिताजी मुराद साहब भी एक लोकप्रिय नाम रह चुके हैं। 

अभिनय का क्रेज रजा को बचपन से ही था। उन्होंने अपने अभिनय की शिक्षा फिल्म और टेलीविजन संस्थान से ली। इन्हें फिल्मों में काम करने का कितना शौक था। उनके इस बात से पता चलता है जब उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था हम तो मूवी खाते हैं, फिल्म सोते हैं तथा फिल्म ही ओढ़ते हैं।।।। रजा ने लगभग 200 से अधिक फिल्मों में काम की है। यूं तो रजा ने अपने करियर में कई फिल्मों में काम किया है। किन्तु रजा का कहना है कि भगवान 'राम' की बहुत मेहरबानी है उनपर। वो उन्होंने ऐसा क्यों कहा वो हम आपको बताते हैं। वास्तविक में रजा को बॉलीवुड में अवसर बाबूराम इशारा ने दिया, जिनके नाम में ‘राम’ शब्द है। उसके पश्चात् रजा की तीन सुपरहिट मूवी ‘राम तेरी गंगा मैली‘, ‘राम-लखन’ तथा ‘रामलीला’ में भी ‘राम’ का नाम है।

फिल्मों में हमेश खलनायक के किरदार में नजर आने वाले रजा वास्तव में जिंदगी में बिल्कुल अलग हैं। उनको धर्म, प्यार मोहब्बत में बहुत भरोसा है। शादी, परिवार तथा संबंधों में उनकी गहरी आस्था है। 1982 की 2 मई को समीना रजा मुराद से इनका विवाह हुआ। तब से अब तक दोनों सुखी गृहस्थ-धर्म निभा रहे हैं। इसी के साथ रजा मुराद ने अपने करियर में कई उपलब्धियां हासिल की है। 

अनुपम खेर ने साझा की 29 साल पुरानी फोटोज, देंखे ये अद्भुत तस्वीरें

दंगल अभिनेत्री ने अपनी जिंदगी को लेकर कही ये बात

सुशांत सिंह राजपूत को 17 करोड़ रुपये के भुगतान को लेकर ईडी ने की दिनेश विजान से पूछताछ