'बहुत पूजा कर ली, अब ऊपर जाकर करना..' जब दाऊद और अबू सालेम ने करवाई थी गुलशन कुमार की हत्या

05 मई 1951 को जन्‍मे गुलशन कुमार दुआ ने राष्ट्रीय राजधानी में एक कैसेट्स की दुकान खोली थी। वह सस्‍ते गानों के कैसेट्स बेचा करते थे। इसके बाद संगीत के प्रति लगाव के चलते उन्होंने नोएडा में म्‍यूजिक प्रोडक्‍शन कंपनी खोली। व्‍यापार बढ़ा तो मुंबई श‍िफ्ट आ गए। 1983 में T-Series की नींव रखी। देश में सबसे अधिक टैक्‍स चुकाने वाले शख्‍स बने। आज भी जम्मू कश्मीर स्थित पवित्र मंदिर वैष्‍णो देवी में उनके नाम से भंडारा चलता है। मगर हमेशा मुस्‍कुराने वाले गुलशन कुमार का अंत कुछ इस तरह हुआ, जिसने न केवल बॉलिवुड बल्‍क‍ि मुंबई से दुबई तक हर किसी को हिलाकर रख दिया। 90 का दशक मायानगरी मुंबई के लिए किसी काले साए से कम नहीं रहा।

जहां एक तरफ मायानगरी में कारोबार बढ़ रहा था, वहीं अंडरवर्ल्‍ड की पकड़ भी मजबूत हो रही थी। उस समय मुंबई में दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) और उसके करीबी माने जाने वाले अबू सलेम (Abu Salem) की तूती बोलती थी। 1993 में बम ब्लास्ट से मुंबई एक बार दहल चुकी थी। जबकि 12 अगस्‍त 1997 को गुलशन कुमार का क़त्ल कर दिया गया। जीतेश्वर महादेव मंदिर से बाहर निकलते ही उनके शरीर को 16 गोलियों से छलनी कर दिया गया।  दाऊद इब्राहिम के इशारे पर अबू सलेम ने गुलशन कुमार की हत्‍या की योजना बनाई थी। दो शार्प शूटरों को मंदिर के बाहर तैनात कर दिया था। अबू सलेम के इस योजना की जानकारी पुलिस को भी थी। पांच माह पूर्व अप्रैल महीने में ही एक मुखबिर ने महाराष्‍ट्र के पूर्व DGP राकेश मारिया को इस बारे में खबर दी थी। फोन पर कहा था कि, 'सर, गुलशन कुमार का विकेट गिरने वाला है।'

बता दें कि गुलशन कुमार ने हिंदी गानों, खासकर शिव-पार्वती के भजनों को घर-घर तक पहुंचाया था। वैष्णो देवी जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए उन्‍होंने भोजन से लेकर रहने-खाने तक सबकुछ प्रबंध करवाया। उनका यह नेक काम आज भी जारी है। किन्तु गुलशन कुमार की बढ़ती कमाई और लोकप्रियता किसी को खटक रही थी। बताया जाता है कि दाऊद इब्राहिम के कहने पर अबू सलेम ने गुलशन कुमार से 10 करोड़ रुपये की फिरौती की मांग की थी। पत्रकार से लेखक बने हुसैन जैदी (Hussian Zaidi) ने अपनी पुस्तक 'My Name is Abu Salem' में लिखा है की, 'डॉन अबू सलेम ने गुलशन कुमार से 10 करोड़ रुपये बतौर फिरौती मांगे थे। किन्तु गुलशन कुमार ने यह देने से साफ मना कर दिया था। अंडरवर्ल्ड से लगातार फोन आते रहे, मगर गुलशन कुमार डरे नहीं। गुलशन कुमार ने अबू सलेम से फोन पर कहा कि- 10 करोड़ में तो मैं वैष्णो देवी में भंडारा करवा दूंगा... अबू सलेम को यह बात इतनी नागवार लगी कि उसके गुर्गों ने हत्‍या करते समय गुलशन कुमार से कहा- बहुत पूजा कर ली, अब ऊपर जाकर करना।'

रिलीज़ हुआ 'बचपन का प्यार' का न्यू वर्शन, बादशाह और सहदेव ने इंटरनेट पर लगाई आग

Mission Frontline: 'वीरांगना लुक' में नज़र आईं सारा अली खान, फैंस को मिलेगा एक्शन का जबरदस्त डोज़

पहली बार एक गाने में नजर आएंगे 15 मशहूर बॉलीवुड स्टार्स, रिलीज हुआ मोशन पोस्टर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -