कॉफी स्वास्थ्य के लिए हो सकती है नुकसानदेह, जानिए क्या है कारण

कॉफी स्वास्थ्य के लिए हो सकती है नुकसानदेह, जानिए क्या है कारण

आप में से कई लोग एक कप कॉफी के बिना नहीं जाग सकते हैं। यह सुबह में एक ताज़ा ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है तो यहाँ कुछ चिंता का विषय है। एक हालिया अध्ययन से पता चलता है कि पहली चीज पीने से रक्त शर्करा नियंत्रण पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है - मधुमेह और हृदय रोग के लिए एक जोखिम कारक है। रात की नींद के बाद कॉफी पीने से नींद महसूस करने की समस्या को हल करने में मदद मिलती है लेकिन आपके नाश्ते में चीनी को सहन करने की आपके शरीर की क्षमता को सीमित करके एक और मुश्किल समस्या पैदा कर सकती है।

ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रीशन नामक पत्रिका में प्रकाशित शोध टीम ने अलग-अलग चयापचय मार्करों की एक सीमा के दौरान टूटी हुई नींद और सुबह की कॉफी के प्रभाव को देखा। ब्रिटेन में स्नान विश्वविद्यालय के लेखकों ने कहा, "परिणाम बताते हैं कि एक रात की खराब नींद का हमारे चयापचय पर सीमित प्रभाव पड़ता है। कॉफी पीने से एक तरह से आप एक नींद से उबरने के लिए रक्त शर्करा (चीनी) नियंत्रण पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।"

वही सर्वेक्षण टीम ने सर्वेक्षण के दौरान 29 स्वस्थ पुरुषों और महिलाओं को यादृच्छिक क्रम में तीन अलग-अलग रातोंरात प्रयोगों से गुजरने के लिए कहा। एक स्थिति में भाग लेने वालों की रात की नींद सामान्य थी और उन्हें सुबह जागने पर एक सुगर ड्रिंक का सेवन करने के लिए कहा गया। एक अन्य अवसर पर, प्रतिभागियों ने एक बाधित रात की नींद का अनुभव किया (जहां शोधकर्ताओं ने उन्हें हर घंटे पांच मिनट तक जगाया) और फिर जागने पर वही शक्कर वाला पेय दिया गया। दूसरे पर, प्रतिभागियों ने उसी नींद में व्यवधान का अनुभव किया, लेकिन इस बार सबसे पहले शक्कर पीने से 30 मिनट पहले एक मजबूत ब्लैक कॉफी दी गई। इनमें से प्रत्येक परीक्षण में, प्रतिभागियों से रक्त के नमूने को ग्लूकोज पेय के बाद लिया गया था, जो ऊर्जा सामग्री (कैलोरी) में दर्शाया गया था कि आमतौर पर नाश्ते में क्या खाया जा सकता है।

घर पर काम करने से लोगों को हो रही है परेशानी, घरों में बढ़ रहे तनाव

जानिए एप्पल साइडर सिरका के स्वास्थ्य लाभ

कोरोना की चपेट में आए पंजाब के स्वस्थ्य मंत्री, कल राहुल गांधी के संपर्क में आए थे