हिप बोन में दर्द के हो सकते है कई कारण, अपनाएं आसान तरीके

हिप बोन में दर्द के हो सकते है कई कारण, अपनाएं आसान तरीके

सप्‍ताह भर के काम के बाद जब आप वीकेंड में आराम के मूड में होते हैं, तब लगता है शरीर के किसी खास हिस्‍से में खिंचाव और तनाव महसूस हो रहा है. ऐसे ही हिप बोन आपको कई बार परेशानी में डाल देती है जिससे छुटकारा पाना चाहते हैं. असल में यह हिप एरिया की मांसपेि‍शियों और बोन्‍स (Hip and joint pain) पर जरूरत से ज्‍यादा दबाव डाल देने के कारण होता है. इनमें लॉन्‍ग वर्किंग आवर और एक ही पोजीशन में ज्‍यादा देर तक रहना सबसे बड़ी वजह है. आइये जानते हैं इसके कारण. 

लाइफस्‍टाइल है एक कारण 
कूल्हे या हिप्स में दर्द महिलाओं और पुरुष दोनों को हो सकता है, लेकिन आमतौर पर यह समस्या महिलाओं को अधिक होती है. लगातार ज्‍यादा देर तक एक ही पॉजीशन में खड़ा रहना या लंबे समय तक बैठे रहने के भी हो सकते हैं दुष्‍प्रभाव. अकसर गलत तरीके से उठने-बैठने या असंतुलित जीवन शैली की वजह से जोडों में दर्द हो सकता है. पर अगर यह दर्द हिप्‍स में है तो इसे हल्‍के में न लें. हिप्‍स पेन कई गंभीर बीमारियों की दस्‍तक हो सकता है.

हिप बोन में दर्द पर अपनाएं ये तरीके 

बर्फ का सेक 
कूल्हों में यदि बहुत ज्‍यादा दर्द हो तो, तुरंत रिलीफ के लिए बर्फ रगड़ी जा सकती है. पर ध्‍यान रहे बर्फ को सीधे अप्‍लाई करने की बजाए, इसे कपड़े में लपेट कर दर्द वाले स्‍थान पर लगाएं. 10 से 15 मिनट तक 4 से 5 बर्फ के टुकड़ों का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अलावा बर्फ को प्लॉस्टिक के बैग में रखकर भी आप हिप्‍स की मसाज कर सकते हैं.

एक्‍सरसाइज करें 
एक्‍सरसाइज से भी हिप पेन में राहत मिलती है. स्ट्रैचिंग या हल्‍के-फुल्‍के व्यायाम इस में मदद कर सकते हैं. स्विमिंग बहुत अच्छी कसरत है. यह हड्डियों पर ज्यादा दबाव नहीं डालती.

सेहत के लिए खाने में अपनाएं ये चीज़ें 

पपीता खाने से
पपीते में बड़ी मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है. विटामिन सी न केवल इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है, बल्कि ये कूल्हे के दर्द के लिए भी काफी फायदेमंद है. इसके अलावा सही साइज के जूते पहनकर, एक्सरसाइज करके और मोटापे को नियंत्रित रखकर भी आप हिप पेन से राहत पा सकते हैं.

विटामिन ई 
हिप्स के दर्द से छुटकारा दिलाने के लिए विटामिन ई युक्त चीजें बहुत फायदेमंद होती हैं. खासतौर पर बादाम में पाया जाने वाला ओमेगा 3 फैटी एसिड सूजन और गठिया के लक्षणों को कम करने में मददगार होता है. बादाम के अलावा मछली और मूंगफली में भी पर्याप्त मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है.

नींद में आती है अधिक नींद तो हो सकता है अल्ज़ाइमर का खतरा..

त्योहारों के बाद जरुरी है Body Detox, जानें क्या है फायदे