हिमाचल में कोरोना से बिगड़े हालात, ग्रामीण इलाकों में तेजी से फ़ैल रहा संक्रमण

शिमला: हिमाचल प्रदेश में कोरोना से स्थिति चिंताजनक होती जा रही है। राज्य सरकार की तमाम कोशिशों के बाद भी कोरोना संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है और इस महामारी के कारण होने वाली मौतों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। पिछले एक महीने में कोरोना मरीजों की दर में भारी इजाफा हुआ है। एक महीने के भीतर कोरोना संक्रमण की दर में दो फीसदी का इजाफा हुआ है।

नवम्बर महीने में जितनी कोरोना जांच की गई है, उनमें से 13.58 फीसदी लोग संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में कोरोना का पहला मामला मार्च महीने के दूसरे पख्वाड़े में सामने आया था और तब से लेकर ये अब तक का सबसे अधिक कोरोना रेट है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, नवम्बर महीने में राज्य में 1,35853 टैस्ट हुए हैं। इनमें 18,459 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव पाई गई है। नवम्बर में पाजिटिव मामलों में भारी बढ़ौतरी के चलते राज्य में कोरोना की संक्रमण दर 5.60 से बढ़कर 7.60 फीसदी पहुंच गई है। अब तक राज्य में कोरोना के 5,34894 टैस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें 4 लाख 93 हजार 56 की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है।

सूबे के चार जिलों में कोरोनो को लेकर स्थिति चिंताजनक हैं। इनमें शिमला, मंडी, कांगड़ा और कुल्लू जिला शामिल हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि इन जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों को भी कोरोना ने अपनी गिरफ्त में ले लिया है। गांव में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण ने अब सरकार के सामने बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है।

आ गई 'कोरोना' की वैक्सीन, इस देश में अगले हफ्ते से शुरू होगा टीके लगना

रिलायंस इंडस्ट्रीज लगातार दूसरे साल फॉर्च्यून इंडिया-500 की लिस्ट में सबसे ऊपर दर्ज किया नाम

नवंबर के बाद टाटा मोटर्स ने किया वाहन की बिक्री में 4% से अधिक का इजाफा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -