लाखों के हो जाते है आपके दान में दिये बाल

नई दिल्ली : दक्षिण भारत के तिरूपति बालाजी और अन्य कुछ मंदिरों में जाने वाले श्रद्धालुओं द्वारा श्रद्धा और भक्ति से अपने बाल दान में दिये जाते है। लेकिन ये दान में दिये गये बाल बाद में लाखों रूपये के हो जाते है।

दरअसल दान में आये इन बालों को बाजार में इसलिये बेचा जाता है, ताकि इनका उपयोग विग बनाने आदि में किया जा सके। कुल मिलाकर दान में आये बालों का विग बनाकर बेचने वाले व्यापारियों को लाखों का फायदा होता है। तिरूपति बालाजी और यदगिरगुट्टा जैसे प्रसिद्ध मंदिरों में हर दिन हजारों लोग दर्शन करने के लिये आते है। इन मंदिरों में बाल देने की परंपरा है और इसके चलते ही श्रद्धालु लोग आस्था व विश्वास के साथ अपने बाल दान देने के उद्देश्य से कटवा देते है।

बाल दान देने वालों में पुरूष ही नहीं बल्कि महिलायें भी शामिल होती है। बताया गया है कि जो लोग मंदिरों में बाल को काटते है वे ही बाल को समेटकर बाजार में बेच आते है। हालांकि यह बात अलग है कि बाल दान में देने वालों के मन में कभी कोई प्रश्न नहीं उठता है।

क्यों लगते है बालाजी की ठोड़ी पर चन्दन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -