शत्रुओं पर पाना है विजय तो घर में लगाए इस फूल का पौधा, बढ़ेगी सुख समृद्धि

घर में गुड़हल का पौधा लगाना चाहिए क्योंकि इसको लगाने से सुख समृद्धि बढ़ती है। आज हम आपको इसी के फायदे बताने जा रहे हैं। जी दरअसल उगते सूरज की महिमा की तुलना अक्सर इस फूल से की जाती है। कहा जाता है इनके फूलों का प्रयोग मां दुर्गा की पूजा में किया जाता है। इसी के साथ गुड़हल का पुष्प काफी शुभ माना गया है। जी दरअसल वैदिक ग्रंथों में भी इस पुष्प का वर्णन सौभाग्य एवं सुख समृद्धि हेतु किया गया है। केवल यही नहीं बल्कि इस पुष्प में विशेष रंग और एक विशेष सुगंध होती है जो समस्त वातावरण को सकारात्मक कर देने में सहायक बनती है। कहा जाता है भगवान गणेश और मां दुर्गा को गुड़हल का फूल विशेष रुप से अर्पित किया जाता है। जो शक्ति एवं समृद्धि का प्रतीक है। 

सूर्य पूजा- शास्त्रों के अनुसार गुड़हल के फूल के बिना सूर्य की पूजा अधूरी मानी जाती है। जी हाँ और ऐसे में सूर्य के समान तेज पाने के लिए नियमित रूप से सूर्य पूजा में गुड़हल के फुलों का उपयोग अवश्य करना चाहिए। इसी के साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि उन्हें जल चढ़ाते समय उसमें एक लाल गुड़हल का फूल अवश्य अर्पित करें। कहा जाता है ऐसा करने से आपके तेज में ऐश्वर्या में वृद्धि संभव होगी। इसके अलावा जीवन में मान सम्मान एवं प्रसिद्धि की भी प्राप्ति संभव हो सकएगी।

आर्थिक उन्नति की प्राप्ति- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर किसी व्यक्ति की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है तो उसे मंगलवार के दिन लाल रंग का गुड़हल का देवी दुर्गा जी और हनुमान जी को अर्पित करना चाहिए। इसी के साथ ही देवी लक्ष्मी को गुड़हल का फूल अर्पित करना विशेष रुप से शुक्रवर के दिन। कहा जाता है ऐसा करना धन धान्य को प्रदान करने वाला होता है। गुड़हल के पुष्प से देव पूजा करने से घर में कभी भी पैसों की कमी नहीं रहती है।

कानूनी लड़ाई में विजय प्राप्ति- अगर आप लंबे समय से कोर्ट से जुड़े मामलों में फंसे हुए हैं, और इन कानूनी समस्याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो मां दुर्गा को गुड़हल का फूल चढ़ाएं। ऐसा करने से कानूनी लड़ाई में विजय आपके साथ सदैव बनी रहेगी। जी दरसल दुर्गा उपासना में गुड़हल का उपयोग शत्रुओं पर विजय प्राप्ति के लिए किया जाता है।

विश्व विजेता सिकंदर के हाथ में था ये निशान, अगर आपके हाथ में भी है तो आप हैं लकी

रोज करना चाहिए गायत्री मंत्र का जाप, होते हैं बड़े फायदे

4 जुलाई को है स्कन्द षष्ठी, जानिए इसका शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -