गणेश चतुर्थी: आखिर क्यों बप्पा को पसंद हैं मोदक?

इस समय भाद्रपद का महीना चल रहा है। इसी महीने में गणेश उत्सव आता है और लोग अपने घरों में गणेश जी को लेकर आते है। गणेश उत्सव भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से आरम्भ होता है और अनंत चतुर्दशी तक चलता है। आप सभी जानते ही होंगे भगवान गणेश की स्थापना करने के बाद उनकी सेवा की जाती है और उन्हें मेवा, मिष्ठान और उनके पसंदीदा भोग लगाए जाते हैं। श्री गणेश के सबसे अधिक प्रिय भोग में मोदक शामिल है लेकिन क्या आप जानते हैं उन्हें मोदक क्यों पसंद है? आज हम आपको बताते हैं इस सवाल का जवाब।

आखिर क्यों पसंद है श्री गणेश को मोदक- एक कथा के अनुसार एक बार भगवान शिव शयन कर रहे थे और द्वार पर गणेश जी पहरा दे रहे थे। परशुराम वहां पहुंचे तो ​गणेश जी ने परशुराम को रोक दिया। इस पर परशुराम क्रोधित हो गए और गणेश जी से युद्ध करने लगे। जब परशुराम पराजित होने लगे तो उन्होंने शिव जी द्वारा दिए परशु से गणेश जी पर प्रहार कर दिया।

इससे गणेश जी का एक दांत टूट गया। दांत टूट जाने की वजह से उन्हें काफी दर्द हुआ और खाने पीने में परेशानी होने लगी। तब उनके लिए मोदक तैयार किए गए क्योंकि मोदक काफी मुलायम होते हैं। मोदक खाने से उनका पेट भर गया और वे अत्यंत प्रसन्न हुए। तब से मोदक गणपति का प्रिय व्यंजन बन गया। मान्यता है कि जो भी उन्हें मोदक का भोग लगाता है, गणपति उससे अत्यंत ​प्रसन्न होते हैं।

अब वृद्ध पेड़ों को भी मिलेगी पेंशन, सरकार ने शुरू की 'प्राण वायु देवता' योजना

बस एक क्लिक पर होगा कश्मीरी पंडितों की सभी समस्या का समाधान, मनोज सिन्हा लॉन्च करेंगे वेबसाइट

खत्म हुआ सालों का इंतजार, 'तारक मेहता।।।' शो में हुई इस मशहूर किरदार की वापसी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -