उत्तराखंड में भारी बारिश से मचा हाहाकार, कई मार्ग हुए अवरुद्ध

देहरादून: उत्तराखंड के कई क्षेत्रों में भारी वर्षा की चेतावनी जारी की गई है। प्रशासन अलर्ट पर है। साथ-साथ चार धाम यात्रा पाबंदी लगा दी गई है। यही नहीं एहतियात के रूप में स्कूल एवं कॉलेज भी बंद कर दिए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बारिश एवं बाढ़ की स्थितियों पर मुख्यमंत्री से चर्चा की है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी सचिवालय स्थित आपदा कंट्रोल रूम से राज्य में भारी वर्षा से हुई हानि का जायजा लिया है। 

साथ ही सीएम सीनियर अफसरों एवं जिलाधिकारियों से निरंतर अपडेट ले रहे हैं। साथ ही यहां आने वाले पर्यटकों के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं कि घरों में रहें। बिना कारण यात्रा करने से बचें। पहाड़ों में हो रही वर्षा के पश्चात् कई नदियां उफ़ान पर हैं। मंदाकिनी नदी का बहाव बहुत तेज हो गया है। सोमवार को प्रदेश सरकार ने एक आपात बैठक की जिससे किसी भी हालात से अच्छे तरीके से निपटा जा सके। उत्तराखंड में कई स्थानों पर निरंतर हो रही बारिश से समस्या बढ़ती जा रही है।

वही उत्तराखंड के लोकप्रिय पर्यटक स्थल नैनीताल का दृश्य ऐसा है जो आज तक लोगों ने नहीं देखा। यहां निरंतर 24 घंटे से बारिश हो रही है, जिसके चलते नैनी झील का पानी इतना बढ़ गया है कि पानी मॉल रोड तक आ गया। फिलहाल पानी उतरा है, मगर मार्ग बंद हैं।  रात को कुछ फोटोज सामने आईं जिसमें लोग टखने तक पानी में मॉल रोड से गुजरते नजर आए। नैनी झील के निकासी द्वार खोलने के पश्चात् नाले के आसपास बने घरों में रहने वालों को तनाव रहा। हल्द्वानी एवं भवाली से नैनीताल का संपर्क कटा रहा। बिजली गुल रही। भारी वर्षा के कारण मलबा सड़कों तक आ गया है, जिससे मार्ग बंद हो गए हैं। भारी वर्षा की वजह से नैनीताल, रानीखेत, अल्मोड़ा से हल्द्वानी एवं काठगोदाम तक के सभी राष्ट्रीय राजमार्ग बंद हो गए हैं। 

कानूनी दांव पेंच में उलझी 2287 पदों पर अध्यापकों की भर्ती! 

अब हिंदी में बनेगा योहानी का ब्लॉकबस्टर गाना ‘Manike Mage Hithe’, इस बड़ी फिल्म का होगा हिस्सा

नए आतंकी संगठन PAFF ने ली पूँछ हमले की जिम्मेदारी, शहीद हुए थे 9 भारतीय जवान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -