ग्रीष्म ऋतु ने दी दस्तक ,इस बार टूट सकता हैं भीषण गर्मी का रिकॉर्ड

Feb 21 2020 03:29 PM
ग्रीष्म ऋतु ने दी दस्तक ,इस बार टूट सकता हैं भीषण गर्मी का रिकॉर्ड

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में सामान्य से 1,1.5 डिग्री अधिक तापमान रहेगा. वहीं मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, होली के पश्चात् तेजी से मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा, बीच-बीच में पहाड़ी राज्यों में बर्फबारी और बारिश से मैदानी इलाके प्रभावित जरूर होंगे. उत्तर प्रदेश की राजधानी और उससे लगे इलाकों में बीते गुरुवार को सुबह से बादल आ रहे था. वहीं धूप भी पूरी निकली हुई थी, इस गरमी ने लोगों को काफी परेशान कर दिया था. आफिस में स्वेटर उतरकर कुर्सी के पीछे टांग दिए गए. पर जैसे ही शाम हुई, सात बजे के करीब मौसम कुछ ठंडा हो गया. वहीं रात 11 बजे के करीब तेज हवाएं चलने लगी और एक बड़ा सा पानी का झोका आया. गरम मौसम में सबको कंपकपा के चला गया हैं. बीते शुक्रवार सुबह महाशिवरात्रि के पर्व पर प्रदेश के कई जिलों में आंधी तूफान के साथ भोर के 4 बजे खूब बारिश हुई थी.

आचंलिक मौसम केंद्र के निदेशक जेपी गुप्ता ने कहा कि जम्मू कश्मीर के पास नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो गया है. इसके चलते प्रदेश में तीन चार दिनों तक मौसमी बदलाव देखने को मिल सकेगा.  शुक्रवार यानी आज को महाशिवरात्रि है, राजधानी सहित आस-पास शहरों में बादल हल्की बारिश से उनका अभिषेक कर सकता है. शनिवार को भी छिटपुट बूंदाबांदी समेत हल्की बारिश की संभावना है. गर्मी के मौसम में गर्मी का भंयकर कहर झेलना पड़ सकता हैं. इस बार अप्रैल-मई और जून महीने में रिकॉर्डतोड़ गर्मी की संभावना जताई जा रही है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग का पूर्वानुमान के अनुसार इस बार गर्मियों के मौसम में प्रदेश के मैदानी इलाकों में तापमान सामान्य से अधिक रहेगा. मौसम विभाग से जुड़े वैज्ञानिकों की मानें तो इस बार उत्तर प्रदेश में तापमान सामान्य से 1.5 डिग्री सेल्सियस अधिक रह सकता है.

मौसम विभाग के मुताबिक, इस बार अप्रैल महीने में ही भीषण गर्मी शुरू हो जाएगी उत्तर प्रदेश में 1 से 1.5 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान रहने की संभावना है. भीषण गर्मी के चलते लू भी कहर बरपाएगी. गरमी का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि 12 फरवरी को प्रदेश में अधिकतम तापमान 25.5 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया था. फरवरी महीने में ही रिकॉर्ड तोड़ गर्मी से मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि प्रदेश के कई शहरों का तापमान औसत से अधिक रह सकता है और बढ़े हुए तापमान का रंग मार्च, अप्रैल, मई और जून में देखने और महसूस करने को मिल सकता है.

सरकार ने दी हिमाचल प्रारंभिक शिक्षा विभाग को 1807 पद पर भर्ती की मंजूरी

26 सालों से इस जनजातीय जिले में मात्र आठ रुपये छात्रवृत्ति दे रही है सरकार

तीन राज्यों की सरकारों द्वारा हो रही है दवा सैंपल की जांच