विटामिन-D की कमी से होती है दिल की बीमारियां

विटामिन-D की कमी से होती है दिल की बीमारियां

भारत में धूप की पर्याप्त मात्र होने के बाद भी ज्यादातर भारतीयों में विटामिन डी की कमी पाई जाती है. खास कर दिल की बीमारिया पाई जाती है. एस्कार्ट हार्ट इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर के रिसर्च करता डॉ. प्रवीर अग्रवाल ने बताया की, विटामिन-डी की कमी होने से मानव शरीर में हाइपरटेंशन, इस्केमिक हार्ट डिसीज और हार्ट फेल्योर जैसी दिल की बीमारियों होने का खतरा बड़ जाता है.

उन्होंने कहा कि उनके द्वारा किये गए शोध में पाया गया की विटामिन डी की कमी से पहले दिल का रोग होता है फिर रोगी धीरे-धीरे हाइपरटेंशन और अचानक दिल की धड़कन रुकने जैसी बीमारियो का भी शिकार होने लगता है और फिर मौत का शिकार हो जाता है. डॉ. अग्रवाल ने बताया की भारतीयों में विटामिन-डी की कमी के मुख्य कारणों में धूप से कतराना, घंटों बंद और तनावपूर्ण दफ्तरों में काम करना, साइकिल या पैदल चलने के बजाए वाहनों पर निर्भर रहना, खेल-कूद में भाग लेने की बजाय तकनीक का सहारा लेना और इस बारे में अधिक जानकारी न होने जैसी बातें शामिल हैं.

नोयडा के कैलाश हॉस्पिटल एंड हार्ट इंस्टीट्यूट के एक सीनियर इंटरवेन्शनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. संतोष कुमार अग्रवाल के मत अनुसार, मानव शरीर में जितनी विटामिन डी की कमी होने लगती है उतनी तेजी से दिल की बीमारियो का खतरा बढ़ने लगता है दिल की इन बीमारियो में हाइपरटेंशन और डायबिटीज मुख्य तोर पर पाई जाती है. उन्होंने कहा कि 25 OHD का स्तर कम होना इस्केमिक हार्ट डिसीज, कॉन्जेस्टिव हार्ट फेल्योर, हार्ट अटैक, स्ट्रोक जैसी दिल की बीमारियों के लिए खतरे के संकेत माने जाते हैं. सभी जानते है की विटामिन डी हमारे शरीर में हड्डी तंत्र में कैल्शियम की मात्रा को बनाए रखने के लिए अहम है.

हालांकि अब किये गए शोधो में यह बात भी सामने आरही है की विटामिन डी हमारे शरीर में दिल की बीमारियो को बढ़ावा देने में भी अहम भूमिका निभा रहा है, और हाइपरटेंशन, डायबिटीज और मोटापे जैसे खतरों से जुड़ी हुई है. विटामिन-डी का सबसे बड़ा स्रोत सूर्य की रोशनी है और शरीर के लिए आवश्यक मात्रा का 95 प्रतिशत हिस्सा धूप सेंकने के मिल सकता है. बाकी का हिस्सा अन्य खाद्य पदार्थो से प्राप्त किया जा सकता है. डॉ. अग्रवाल के अनुसार, हर रोज सुबह 10 बजे से अपराह्न् तीन बजे के बीच केवल 30 मिनट तक धूप में समय बिताने से, खासकर बाजुओं पर बिना सनसक्रीन के धूप सेकना फायदेमंद है.