हृदय रेखा खोल देती है व्यक्ति के स्वभाव के बारे में सभी राज

आप सभी को बता दें कि किसी भी हथेली में हृदय रेखा वह रेखा है जो दिल से जुड़ी भावनाओं के विषय में बताती हैं और ज्योतिषों के अनुसार किसी पुरुष के हाथ में हृदय रेखा संतान के जन्म के बारे में बताती है. इसी के साथ कहा जाता है हथेली में हृदय रेखा तर्जनी उंगली या मध्यमा उंगली से शुरू होकर बुध पर्वत के नीचे तक जाती है और हृदय रेखा एक छोर से शुरु होकर दूसरे छोर तक जाए तो वह वर्तमान में जीने वाला स्वभाव वाला व्यक्ति कहा जाता है. कहते हैं ऐसे लोग सपनों की दुनिया से दूर रहते हैं और स्वभाव से भावुक एवं ईर्ष्‍यालु भी हो सकते हैं. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं हृदय रेखा का जीवन में महत्‍व.

1. ज्योतिषों के अनुसार अगर हृदय रेखा मध्य में टूटी हुई हो तो प्रेम संबंधो में बिखराव माना जाता है.

2. कहा जाता है हृदय रेखा का लाल होना और अधिक गहरा होने से स्वभाव से तेज हो सकते हैं और किसी बुरी आदत का शिकार हो जाते हैं.

3. ज्योतिषों का मानना होता है कि दो हृदय रेखा हों, लेकिन उनमें किसी भी प्रकार का दोष न हो तो बुद्धि सात्विक मानी जाती है.

4. ऐसा भी कहा जाता है कि हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा दोनों एक छोर से शुरु होकर हथेली के दूसरे छोर पर तक जाए तो किसी की परवाह नहीं करने वाला स्वभाव माना जाता है.

5. कहते हैं हृदय रेखा पतली हो और गहरी न होकर हल्की हो तो स्वभाव अच्छा नहीं होने का संकेत देता है.

6. कहते हैं यदि हृदय रेखा गुरु पर्वत से शुरू होती है तो ऐसे में यह दृढ़ निश्चयी और आदर्शवादी होने के बारे में बताता है.

7. इसी के साथ यह भी कहा जाता है हृदय रेखा तर्जनी उंगली के मूल से शुरू हो तो जातक मानसिक रुप से परेशान होते हैं.

18 महीने बाद बदलने वाली है राहु-केतु की दिशा, इन राशिवालों को है बड़ा खतरा

आपके हाथ की रेखा बता सकती है आपकी पहली संतान लड़का है या लड़की

अब शुरू होगा फाल्गुन, इस माह में हुआ था चंद्रमा का जन्म

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -