क्या 6 बसपा विधायकों का कांग्रेस में हो पाएगा विलय ?

सर्वोच्च न्यायलय ने राजस्थान में बसपा के 6 एमएलए के कांग्रेस में विलय होने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करने का निर्णय किया है. जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने बताया कि वह उच्च न्यायालय के निर्देश के विरूध्द याचिका पर छह एमएलए द्वारा अलग से दाखिल याचिका के साथ आज मंगलवार को सुनवाई करेगी.

हिमाचल में कोरोना संक्रमितों के 14 नए मामले आये सामने, 3400 से पार पहुंचा आंकड़ा

विदित हो कि राजस्‍थान उच्च न्यायालय ने प्रदेश में सत्‍तारूढ़ कांग्रेस में सम्मिलित हुए बसपा के छह विधायकों के कांग्रेस एमएलए के रूप में कार्य करने पर पाबंदी लगाने से मना कर दिया है. भाजपा विधायक मदन दिलावर ने उच्च न्यायालय के इसी आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. वहीं छह विधायकों ने अलग से दायर अपनी याचिका में सर्वोच्च न्यायालय से गुहार लगाई है, कि उच्च न्यायालय में लंबित दिलावर की याचिका को वह अपने यहां भेजा जाए. 

जन्माष्टमी पर 'कोरोना ग्रहण', गोरखनाथ मंदिर में टूट रही वर्षों पुरानी परंपरा

इसके अलावा दिलावर ने अपनी याचिका में बसपा एमएलए को पार्टी व्हिप का उल्लंघन करने की वजह से अयोग्य घोषित करने का अनुरोध किया है. दिलावर ने उच्च न्यायालय की खंडपीठ के छह अगस्त के आदेश को चुनौती है, जिसमें एकल न्यायाधीश के आदेश के विरूध्द उनकी याचिका का निस्तारण कर दिया गया था. न्यायालय ने छह विधायकों के कांग्रेस एमएलए के रूप में काम करने पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था.सुप्रीम कोर्ट में दिलावर की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने कहा कि विधान सभा अध्यक्ष ने इन विधायकों का कांग्रेस में विलय स्वीकार करके पिछले साल सितंबर में आदेश पारित किया था. बसपा का कहना है कि उसने कभी कोई विलय नहीं किया. साल्वे ने 6 एमएलए की याचिका सर्वोच्च न्यायालय में लंबित होने का भी उल्लेख किया. पीठ ने बताया कि वह दोनों केस पर मंगलवार को सुनवाई करेगी.

क्यों मोर के पंख को अपने मस्तक पर सजाते हैं श्री कृष्ण, जानिए इसका रहस्य ?

कुब्रा सैत ने किया 'सस्पेंड टीम कंगना' हैशटैग का सपोर्ट, मिला यह जवाब

सोनाली बेंद्रे ने ख़ास अंदाज में दी बेटे को जन्मदिन की बधाई

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -