​हवा टकरा रही बार-बार

​हवा टकरा रही बार-बार

हमने ये शाम चिरगों से सजा रखी  है;​​
​आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं;
​हवा टकरा रही है शमा से बार-बार
​और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।

?