​हवा टकरा रही बार-बार

​हवा टकरा रही बार-बार

हमने ये शाम चिरगों से सजा रखी  है;​​
​आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं;
​हवा टकरा रही है शमा से बार-बार
​और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।

क्रिकेट से जुडी ताजा खबर हासिल करने के लिए न्यूज़ ट्रैक को Facebook और Twitter पर फॉलो करे! क्रिकेट से जुडी ताजा खबरों के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

Popular Stories