हाथरस केस: मीडिया को मिली पीड़िता के परिवार से बातचीत करने की अनुमति, परिजनों ने कही ये बात

लखनऊ: प्रदेश सरकार द्वारा नार्को टेस्ट कराए जाने के निर्देश पर पीड़िता के परिवार ने कहा कि कलेक्टर एवं एसपी को नार्को टेस्ट कराना चाहिए क्योंकि वे झूठ बोल रहे हैं। पीड़िता की भाभी ने कहा कि 'हमारे परिवार से किसी भी राजनीती नेता ने फोन पर बात नहीं की। उन्होंने कहा, 'राजनेता केवल सियासत करना चाहते हैं, मुझे नहीं लगता कि वे किसी नेक मंशा के लिए यहां आ रहे हैं।' इसके साथ-साथ पीड़िता की मां ने कहा कि यूपी एडमिनिस्ट्रेशन ने मुझे अपनी पुत्री का शव नहीं दिया। पीड़िता की मां ने कहा, 'मैं भीख मांगती रही। हम सीबीआई इन्वेस्टिगेशन नहीं चाहते।' उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के जज की निगरानी में केस चले। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पीड़िता के परिवार से बातचीत करने के लिए मीडिया को मंजूरी मिल गई है। 

वही कांग्रेस नेता राहुल गांधी तथा अन्य पार्टी के सांसद हाथरस केस के पीड़ित के परिवार से मुलाकात करने के लिए आज दोपहर हाथरस जाने वाले हैं। इस मध्य दिल्ली नोएडा डायरेक्ट फ्लाईवे पर टोल प्लाजा पर पुलिस तैनात की गई है। साथ ही कांग्रेस के राज्यसभा मेंबर तथा सीनियर एडवोकेट विवेक तन्खा ने कहा कि यदि परिवार को लोगों से मिलने पर लगी पाबंदी नहीं हटाई गई तो वह अदालत का रुख करेंगे। 

साथ ही उन्होंने ट्वीट किया, ‘हाथरस की पीड़िता के परिवार को किसी से मिलने से रोके जाने को लेकर कपिल सिब्बल से वार्ता की । यह इस परिवार के मौलिक अधिकार का घोर हनन है। सीएम योगी आदित्यनाथ को सलाह है कि वह यह प्रतिबन्ध हटाएं, नहीं तो हम अदालत का रुख करेंगे।’ वही कांग्रेस के राज्यसभा मेंबर तथा सीनियर एडवोकेट विवेक तन्खा ने कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ को सलाह है कि वह यह रोक हटाएं, नहीं तो हम कोर्ट का रुख करेंगे।’

नाना-नानी ने की 2 दिन की मासूम की हत्या, नन्ही सी जान पर चाक़ू-ब्लेड से किए 80 वार

हाथरस मामले पर राहुल का ट्वीट, कहा- दुनिया की कोई ताकत मुझे पीड़ितों से मिलने से नहीं रोक सकती

मध्यप्रदेश में नहीं होगा IIFA अवार्ड, शिवराज बोले- मुझे 'तमाशा' पसंद नहीं

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -