हिसार के 30 परिवारों का फैसला - अब दफनाकर नहीं, बल्कि दाह देकर करेंगे अपनों का अंतिम संस्कार

हिसार: हरियाणा के हिसार जिले में रहने वाले एक समुदाय विशेष के 30 परिवार अब अपने परिवार के सदस्यों का अंतिम संस्कार दफनाकर करने की जगह हिंदू संस्कृति के मुताबिक अग्नि देकर किया करेंगे. हिसार से लगभग 50 किलोमीटर दूर स्थित उकलाना के अंतर्गत आने वाले बिठमड़ा गांव में एक विशेष जाति से संबंध रखने वाली बुजुर्ग महिला फुल्ली देवी का दाह संस्कार हिंदू मान्यता के मुताबिक अग्नि देकर किया गया. 

मृतक महिला के बेटे सतबीर सिंह का कहना है कि मुगल बादशाह औरंगजेब के शासन काल में उनके पूर्वजों पर दाह संस्कार की पद्धति को छोड़कर मृतक का शव दफनाने की परंपरा अपनाने का दबाव डाला गया था, जिसके चलते वो तभी से अपने परिवार वालों का अंतिम संस्कार दफनाकर करने लगे थे. किन्तु उनकी आस्था हिंदू धर्म में ही रही है. उन्होंने कहा कि गांव के लोग भी मेरी मां के अंतिम संस्कार में शामिल हुए.

आपको बता दें कि अब बिठमड़ा गांव के 30 परिवारों ने भी ऐसा ही करने का फैसला किया है. मृतक महिला के भतीजे मजीर ने कहा कि भविष्य में वो अब हिंदू रीति रिवाज के मुताबिक ही दाह संस्कार करेंगे. परिवार के लोगों ने ये भी बताया कि उन्होंने यह फैसला बगैर किसी दबाव के लिया है.

एमपी के इस शहर में प्लाज्मा थैरेपी से ठीक हुआ कोरोना का मरीज

सप्ताह के पहले दिन हरे निशान में खुले बाजार, 350 अंक चढ़ा सेंसेक्स

राष्ट्रीय तकनिकी दिवस पर पीएम मोदी ने किया 'अटलजी' को याद, परमाणु परीक्षण के लिए किया नमन

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -