हरकत भी हम जानते है

ेरी चुप्पी का सबब हम जानते है ,
लरज़ते होंठों की शिकायत हम जानते है ,
मेरी हिचकी भी दे रही है गवाही मुहब्बत की,
तेरे पलकों की हरकत भी हम जानते है ।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -