आखिर कौन है हार्दिक पांड्या को उनकी मंजिल तक ले जाने वाला शख्स

नई दिल्ली : किसी ने सच ही कहा है कि जो शख्स किसी बड़ी मंजिल तक पहुंचा दे उसे न तो भुलाया जा सकता है और ना ही उसके आभार से मुक्त हुआ जा सकता है. ऐसा ही कुछ महसूस कर रहे है भारतीय टेस्ट टीम में पहली बार शामिल किए गए ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या जिन्हें इस मंजिल तक पहुंचाने वाले शख्स का नाम है राहुल द्रविड़. हार्दिक का कहना है कि ऑस्ट्रेलियाई दौरे के दौरान इंडिया 'ए' के कोच राहुल द्रविड़ सर के मार्गदर्शन ने उन्हें 'मानसिक रूप से मजबूत' बनाया.

गुरूवार को अपना अनुभव बांटते हुए हार्दिक ने कहा इंडिया 'ए' टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया के दौरे के बाद मेरे लिए सारी चीजें बदल गई. मैं राहुल द्रविड़ के योगदान के लिए उनका आभार व्यक्त करता हूं. उन्होंने (द्रविड़) मुझे मानसिक रूप से मजबूत बनाया. उन डेढ़ महीनो के दौरान मैंने राहुल जी से सीखा वैसी सीख मुझे कहीं नहीं मिली. अगर आज मेरी गेंदबाजी की चर्चा हो रही है तो यह राहुल सर और इंडिया 'ए' के गेंदबाजी कोच पारस महाम्ब्रे की वजह से ही है. टेस्ट टीम में चुने जाने पर पांड्या ने खुश होकर कहा कि टेस्ट क्रिकेट खेलना हर क्रिकेटर का सपना होता है. यह मेरे करियर की अब तक की सबसे बड़ी उपलब्धि है. टेस्ट टीम में चुना जाना मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा दिन है.

बता दें कि टीम इंडिया के लिए चार वनडे और 16 अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच खेल चुके हार्दिक पांड्या 16 प्रथम श्रेणी मैचों में 22 विकेट अपने नाम कर चुके हैं. इन मैचों में उन्होंने 27.96 के औसत से पांच अर्धशतक लगाए हैं. हार्दिक बल्लेबाजी और गेंदबाजी के साथ फील्डिंग में भी महारत रखते हैं और टीम इंडिया के उम्दा फील्डरों में से एक हैं.

पहले मैच के हीरो बने पंड्या, चुने गए मैन ऑफ़ द मैच

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -